पीड़ितों को इंसाफ दिलाने के लिए अकाली दल कोई कसर नहीं छोड़ेगा : सुखबीर


अमृतसर, 20 अक्तूबर (राजेश कुमार) : अकाली दल के प्रधान तथा पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने अमृतसर में दशहरा मौके हुए रेल हादसे के दुखांत के लिए कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को ज़िम्मेवार ठहराते हुए सरकार से उनको कैबिनेट में से तुरंत बर्खास्त करने के  साथ-साथ पर्चा दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग की है। आज यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए स. बादल ने कहा कि वह रेल हादसे पर सियासत नहीं कर रहे लेकिन जो भी वह कह रहे हैं वह उन परिवारों की आवाज और गुस्से भरा जज्बात हैं जो रेल हादसे से प्रभावित हुए हैं। उन्होंने सरकार की ओर से बनाई गई जांच कमिशन को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि सरकार की जांच कमिशन के सदस्य सरकारी अधिकारी अपनी सरकार के मंत्री के खिलाफ क्या जांच करेगा। उन्होंने पंजाब से बाहर किसी निष्पक्ष एजैंसी से जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि बड़े अफसोस की बात है कि सैकड़ों चश्मदीद गवाह होने के बावजूद भी रेल प्रशासन की ओर से सिर्फ 4 अज्ञात व्यक्तियों खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि घटनास्थल पर मौजूद कई चश्मदीदों के  बयानों पर समारोह के आयोजक ों सहित नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए। सुखबीर सिंह बादल ने आरोप लगाते हुए कहा कि कै प्टन अमरेन्द्र सिंह आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं इसलिए इस भयानक हादसे को सरकार द्वारा कुदरती ठहराये जाने की कोशिशें हो रही हैं। उन्होंने कहा कि जब तक पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिल जाता तब तक अकाली दल चुप नहीं बैठेगा। इस मौके पर गुलजार सिंह रणीके, वीर सिंह लोपोके, रजिंदर सिंह मेहता, तलबीर सिंह गिल, संदीप सिंह, हरजाप सिंह, मलकीयत सिंह ए.आर., रविकरन सिंह काहलों, मनजीत सिंह मन्ना, गुरप्रताप सिंह टिक्का, किरनप्रीत मोनू, रजिंदर सिंह मरवाहा, मेजर शिवी, प्रो. सरचांद सिंह आदि मौजूद थे। इससे पहले सुखबीर सिंह बादल, बिक्रम सिंह मजीठिया ने घटनास्थल का दौरा किया और अस्पतालों में जाकर घायलों का हाल चाल भी पूछा। वह मृतकों के अंतिम संस्कार के समय श्री दुर्ग्याणा मंदिर के शिवपुरी श्मशान घाट भी गए।