संपत गैंग के 5 गैंगस्टर काबू


एस. ए. एस. नगर, 13 जून (जसबीर सिंह जस्सी): मोहाली पुलिस ने गैंगस्टर संपत नेहरा से संबंधित 5 गैंगस्टरों को हथियारों सहित काबू करने में सफलता प्राप्त की है। उक्त गैंगस्टरों की पहचान रमनदीप सिंह उर्फ भायू निवासी गांव खंडूर ज़िला फिरोजपुर, शुभनवदीप सिंह उर्फ शुभ निवासी गांव मंडियाला ज़िला अमृतसर, जसप्रीत सिंह उर्फ जस्सू निवासी गांव केसरी ज़िला अंबाला (हरियाणा), गुरविंद्र सिंह उर्फ गुरी (बिंद्री) निवासी गांव केसरी अंबाला व दिनेश कुमार निवासी गांव हरपालू ताल (राजस्थान) के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार उक्त गैंगस्टर नाभा जेल में बंद दीपक टीनू जोकि संपत नेहरा का शापशूटर है, को जेल में से छुड़वाने की ताक में थे। इस संबंधी ज़िला पुलिस प्रभारी कुलदीप सिंह चाहल ने बताया कि उक्त पांचों गैंगस्टरों से 2 पिस्टल 315 बोर सहित 10 जिंदा कारतूस, 1 पिस्टल 32 बोर सहित 6 जिंदा कारतूस, 1 क्रिपान व एक आई ट्वंटी कार बरामद की गई है। उन्होंने बताया कि उक्त मुलाज़िमाें को गुप्त सूचना के आधार पर राधा स्वामी चौक नज़दीक से गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि उक्त गैंगस्टरों की पूछताछ दौरान सामने आया कि वरिंद्र सिंह निवासी गांव प्रखाण वाला ज़िला मुक्तसर साहिब जिसको सैक्टर-71 मोहाली से अगवा किया गया था, वाली वारदात को अंजाम देना कबूला है। इसी तरह मुलाज़िमों ने पूछताछ दौरान माना कि उन्होंने एक वरना कार जोकि देवी लाल पार्क पंचकूला से हथियारों की नोक पर छीनी थी, जिस संबंधी थाना सैक्टर-5 पंचकूला में मामला भी दर्ज है, उक्त वारदात को हल करते हुए वरना कार बरामद कर ली गई है, जबकि गांव सनेटा के पैट्रोल पम्प से हथियारों की नोक पर 60 हज़ार रुपए छीनने वाली वारदात को भी उक्त मुलज़िमों ने अंजाम देना माना है। इस मौके हरबीर सिंह अटवाल एसपी, आलम विजय सिंह डीएसपी सिटी-1, तरलोचन सिंह इंचार्ज सीआईए स्टाफ मोहाली व राजीव कुमार थाना प्रभारी मटौर भी उपस्थित थे।मोहाली व राजस्थान पुलिस का था सांझा आप्रेशन : पुलिस द्वारा पांचों गैंगस्टरों की गिरफ्तारी के लिए मोहाली व राजस्थान पुलिस द्वारा सांझे तौर पर अभियान चलाया गया था। उक्त गैंगस्टरों संबंधी मोहाली पुलिस को सूचना मिली थी, मोहाली पुलिस द्वारा इस संबंधी राजस्थान पुलिस को सूचना दी गई व सांझे आप्रेशन दौरान उक्त मुलज़िमों को असले सहित काबू किया गया है। सूत्रों अनुसार इस मामले में कुल 7 मुलज़िम पकड़े गए थे, जिनमें से 2 मुलज़िम राजस्थान पुलिस अपने साथ ले गई है, क्योंकि वह कत्ल जैसी वारदातों में राजस्थान पुलिस को जरूरी थे। संपत नेहरा व लारेंस के पकड़े जाने कारण टीनू को छुड़वाने की तैयारी में थे : पुलिस सूत्रों अनुसार गिरफ्तार गैंगस्टरों की पूछताछ दौरान सामने आया है कि लारेंस बिशनोई व संपत नेहरा के पकड़े जाने कारण गिरोह के अन्य सदस्यों में निराशा पाई जा रही थी। अपने गैंग को खौफ व अन्य सदस्यों में जान पाने के लिए उक्त गिरफ्तार गैंगस्टरों द्वारा नाभा जेल में बंद संपत नेहरा के शापशूटर दीपक टीनू को छुड़वाने की पूरी तैयारी की हुई थी। संपत नेहरा पर राजस्थान पुलिस द्वारा 50 हज़ार रुपए का इनाम भी रखा गया है,जबकि पुलिस द्वारा गिरफ्तार गैंगस्टर दिनेश कुमार फौज में नौकरी कर चुका है व राजस्थान का होने कारण संपत नेहरा के संपर्क में आया था। पुलिस ने मकान मालिक विरुद्ध भी किया मामला दर्ज : पुलिस द्वारा गिरफ्तार गैंगस्टरों में से रमनदीप सिंह उर्फ भायू जोकि मोहाली में किराए के मकान में रह रहा था, के संबंध में थाना सोहाना की पुलिस द्वारा मकान मालिक विरुद्ध भी मामला दर्ज किया गया है। पुलिस अनुसार गैंगस्टरों को किराए पर मकान देने संबंधी किसी तरह की कोई पुलिस वैरीफिकेशन न करवाने पर यह कार्रवाई की गई है।