‘विरोध करो या मरो’ लहर के तहत  विभन्न संस्थाओं द्वारा नशों के विरुद्ध प्रदर्शन


सुल्तानपुर लोधी, 2 जुलाई (बलविंदर लाडी): ‘विरोध करो या मरो’ नाम की नशा विरोधी लहर जो पूरे पंजाब में फैल चुकी है, उस वक्त और बल मिला पवित्र शहर सुल्तानपुर लोधी में विभिन्न संस्था अवतार रेडियो अध्यापक, पत्रकार व नौजवानों ने यहां सुल्तानपुर लोधी में एकता करके चौक तलवंडी चौधरियां मैं रोष प्रदर्शन किया और हाथों में पोस्टर पकड़कर काले बिल्ले लगाकर काला सप्ताह 1 जुलाई से 7 जुलाई तक मनाने का फैसला किया गया। इस मौके और दूर-दूर से गांवों से भी लोगों ने आकर इस लहर को समर्थन दिया। सबसे बड़ी देखने की यह बात थी कि बिना किसी ट्रैफिक रोके बिना शांतिपुर रोष प्रदर्शन करके सरकार को जगाने की कोशिश की गई जो पंजाब में पिछले दिनों चल रही नशे की लहर को थामने में नाकाम हो रही है। इस मौके बलविंदर सिंह धारीवाल, सुरजीत सिंह टिब्बा ने संयुक्त रुप में संबोधित करते हुए कहा पंजाब में पिछले कुछ दिनों से के साथ लगातार नौजवानों की हो रही मोते चिंता का विषय हैं। इसका मतलब यह है कि पंजाब जिसको इस सरकार ने नशा मुक्त करने का चुनाव से पहले जो वायदा किया था वह नशे का दरिया रोकने में असफल होती नजर आ रही है बल्कि अब तो हर गांव हर शहर में लोग आवाज़ लगा रहे हैं कि चिट्टे के व्यापारियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाना चाहिए। उन्होंने लोगों से अपील की वह मोहलों गांव शहरों में एकत्रित होकर नशे के सौदागरों के खिलाफ संघर्ष करें और सोई पड़ी सरकार को जगाने की कोशिश करें। 
इस मौके बिना किसी प्रकार के लोगों को परेशान किए ट्रैफिक को जाम किए बिना शांतमई तरीके के साथ लोगों को नशों के खिलाफ सड़क के किनारे खड़े होकर जागृत करने की कोशिश की गई और लोगों को यह संदेश दिया कि सरकार को मजबूर कर दो वह अपने कार्य करने की क्षमता को ठीक ढंग से कर सके और नशे को हर हालत में बंद करें जिसके कारण पंजाब के मां के बेटे दिन-ब-दिन मौत के मुंह में जाने से बचाया जा सके। उन्होंने बताया कि अब अपनी बात लोगों को तंग किए बिना भी कर सकते हैं। इस वक्त इस लहर के साथ नाटककार, बुद्धिजीवी, फिल्मकार, लेखक, अध्यापक, वकील, पूर्व अफसर, नौजवान आदि बड़ी संख्या में करते हुए। इस मौके बलविंदर सिंह धारीवाल, लोधी सुरजीत सिंह टिब्बा मीडिया तर्कशील सोसायटी पंजाब, मास्टर चरण सिंह किसान सभा, मास्टर सुच्चा सिंह गवर्नमेंट पेंशनर्स यूनियन, मास्टर जसवीर सिंह, मास्टर हजारा सिंह, सुखवंत सिंह ग्रेवाल, रत्न सिंह, विक्की जयपुर, मुख्त्यार सिंह किसान संघर्ष कमेटी, सुखविंदर सिंह पूर्व चेयरमैन, कांति, जसवीर कौर नारी शक्ति, जोगिंदर सिंह फौजी, स्वर्ण सिंह प्रधान, बलविंदर सिंह, हरजिंदर सिंह सरपंच, जगदीश सिंह, कर्मवीर सिंह, परमजीत सिंह खालसा, मनवीर सिंह, लखविंदर सिंह लक्खा सचिव सुल्तानपुर लोधी, गुरविंदर सिंह, लवप्रीत सिंह, मिलखा सिंह, सुरजीत सिंह आदि उपस्थित थे।