मोदी सरकार की विदाई ज़रूरी : महागठबंधन


देवबंद (सहारनपुर), 7 अप्रैल (वार्ता) : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को केन्द्र की सत्ता से बेदखल करने के लिए उत्तर प्रदेश में तीन बड़े दलों के नेताओं ने रविवार को एकजुटता का प्रदर्शन करते हुये पहली बार मंच साझा किया और कहा कि गरीब,अल्पसंख्यक और किसानों की आवाज़ को कुचलने वाली मोदी सरकार की विदाई का काम गठबंधन करेगा। विश्व विख्यात इस्लामिक शिक्षण संस्था दारूल उलूम की भूमि देवबंद पर आयोजित जनसभा में शामिल समर्थकों की बड़ी तादाद से गदगद तीनों दलों के प्रमुख नेताओं ने मोदी सरकार को गरीब, किसान, अल्पसंख्यक और मजदूर विरोधी करार दिया और देश हित में गठबंधन प्रत्याशियों को जिताने की अपील की। गठबंधन में शामिल समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि खुद को कभी चायवाला तो कभी चौकीदार कहने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के झूठे वादों का मिथक टूट चुका है और देश की जनता नये दल का नया प्रधानमंत्री चुनने का प्रण कर चुकी है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने इशारों ही इशारों में प्रधानमंत्री बनने की मंशा का इज़हार करते हुए कहा कि गठबंधन की सरकार बनने की दशा में वह उत्तर प्रदेश में चार बार मुख्यमंत्री रहने के अपने अनुभव का भरपूर इस्तेमाल कर लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने का काम करेंगी। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने कहा कि संविधान लोगों को सरकार बदलने की ताकत देता है। यह चुनाव देश का भविष्य तय करेगा और भाजपा का सूपडा साफ हो जाएगा।