फ्रैंच ओपन राफेल नडाल की कायम सुल्तानी इगा बनी नई रानी

10 अक्तूबर, 2020 पोलैंड के लिए ऐतिहासिक दिन रहा। फ्रैंच ओपन जीतकर इगा स्विटेक ग्रैंड-स्लैम खिताब हासिल करने वाली पोलैंड की पहली खिलाड़ी बनीं। इसके चंद घंटे बाद उन्हीं के देशवासी 22 वर्षीय जन-करजीस्ता दूदा ने अविश्वसनीय कारनामा कर दिखाया। दूदा ने अल्तिबोक्स नॉर्वे शतरंज प्रतियोगिता के 5वें चक्र में मैगनस कार्लसन को पराजित कर दिया और इस तरह कार्लसन का जो 2 वर्ष, 2 माह व 10 दिन से क्लासिकल टाइम फॉर्मेट में 125 मैचों का विश्व रिकॉर्ड विजयी अभियान था, उस पर विराम लगा। क्लासिकल टाइम फॉर्मेट में कार्लसन की पिछली हार 31 जुलाई, 2018 को बिएल फैस्टिवल में शखरियार मामेद्यारोव के हाथों आई थी। क्लासिकल टाइम फॉर्मेट में लगातार 111 मैच जीतने का पिछला रिकॉर्ड रूस के सेर्गेई तिव्लाकोव का था जो उन्होंने 2005 में स्थापित किया था। कार्लसन ने यह रिकॉर्ड इस साल जनवरी में टाटा स्टील शतरंज में तोड़ा था।  गैर वरीयता प्राप्त इगा स्विटेक ने चौथी वरीयता प्राप्त अमरीका की सोफिया केनिन को सीधे सैटों में 6-4, 6-1 से हराया और इस तरह फ्रैंच ओपन को अपनी नई महिला चैम्पियन मिली लेकिन पुरुष एकल वर्ग में ट्राफी जाने-पहचाने हाथों में ही गई, सुल्तान ऑफ क्ले राफेल नडाल ने अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी नोवाक जोकोविच को सीधे सैटों 6-0, 6-2, 7-5 से रौंदते हुए रिकॉर्ड 13वीं बार फ्रैंच ओपन अपने नाम किया और अब वह 20 ग्रैंड-स्लैम खिताब जीतकर रोजर फेडरर के आल टाइम रिकॉर्ड के बराबर पहुंच गये हैं। 13 फ्रैंच ओपन खिताब के अतिरिक्त नडाल के पास 4 यूएस ओपन, 2 विम्बलडन और एक ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब भी है। पिछले 15-17 साल के पुरुष टैनिस इतिहास पर नज़र डालें तो मालूम होगा कि ग्रैंड-स्लैम की ट्राफियां रोजर फेडरर (20), नडाल (20) व जोकोविच (17) के हाथों में घूमती हुई नजर आई हैं। हां, बीच-बीच में अपवादस्वरूप कोई अन्य खिलाड़ी भी पोडियम पर नज़र आया है, लेकिन अक्सर तब जब इन तीनों में से कोई न हो, जैसे इस वर्ष के यूएस ओपन में फेडरर चोट की वजह से, नडाल कोविड संक्रमण के डर से मौजूद नहीं थे और जोकोविच डीफाल्ट के कारण बाहर हो गये थे, जिससे डोमनिक थीम को चैंपियन बनने का अवसर मिल गया। लेकिन यह निरंतरता व दबदबा पिछले 5-7 वर्षों से महिला टैनिस में देखने को नहीं मिल रहा है। इसलिए इतनी सारी नई ग्रैंडस्लैम विजेता हो गई हैं। इगा स्विटेक का भी मानना है कि महिला टैनिस निरंतरता से संघर्ष कर रहा है। इसलिए वह कहती हैं, ‘मुझे अगले कुछ वर्षों तक निरंतर अच्छा प्रदर्शन करना होगा, तभी मैं बेस्ट प्लेयर की श्रेणी में आ सकूंगी।’अगर इगा स्विटेक के खेल व व्यक्तित्व की समीक्षा की जाए तो वह पुरानी व नई शैली का मिश्रण प्रतीत होती हैं। वह अपनी सर्व के पीछे आने से नहीं डरतीं। अपनी इसी शैली की वजह से 19-वर्षीय इगा स्विटेक पिछले 23-वर्ष के दौरान इवा मजोली (1997) के बाद फ्रैंच ओपन का महिला खिताब जीतने वाली पहली किशोरी हैं। पिछले 13-वर्ष में जस्टिन हेनिन (2007) के बाद पहली महिला हैं जिन्होंने पेरिस में विजय बिना कोई सैट गंवाए हासिल की है। इगा स्विटेक ने 7 मैचों के दौरान सिर्फ  28 गेम्स हारे। 31 मई, 2001 को वॉरसॉ, पोलैंड में पैदा हुईं इगा स्विटेक के पिता टोमास्ज पूर्व ओलिंपिक रोवर हैं, उन्होंने 1988 के सियोल ओलम्पिक्स के पुरुष क्वैडरुप्ल स्कल्स में हिस्सा लिया था। इगा स्विटेक की बदौलत पोलैंड ने 2016 में जूनियर फेड कप जीता। उन्होंने 2018 में जूनियर विम्बलडन जीता। उनका प्रोफैशनल करियर 2016 में आईटीएफ  सर्किट से शुरू हुआ और उन्होंने जिन सात प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया उन सभी में विजय हासिल की। इगा स्विटेक कहती हैं, ‘यह क्रेज़ी है। दो वर्ष पहले मैंने जूनियर ग्रैंड-स्लैम जीता था और अब मैं यहां हूं। समय कितनी जल्दी गुजर जाता है। मैं हर साल राफेल नडाल को ट्राफी उठाते हुए देखती थी और अब मैं उसी जगह पर खड़ी हूं।’ कोविड के कारण फ्रैंच ओपन को अपने मई-जून के परम्परागत समय से स्थगित कर दिया गया था। दूसरी ओर 34-वर्षीय नडाल का इरादा रोलां गार्रो पर 2005 में अपने डेब्यू के बाद से अपनी 100वीं जीत (मात्र 2 हार) दर्ज करने का था ताकि वह अपना 13वां फ्रैंच ओपन (और रिकॉर्ड 20 वां) ग्रैंड-स्लैम खिताब हासिल कर सकें। कोशिश नडाल की रंग लाई और वह अंद्रेस गिमेनो (1972) के बाद से पेरिस में बिना सैट गंवाकर चैंपियन बनने वाले सबसे बुजुर्ग खिलाड़ी बने। जोकोविच को पेरिस में नडाल ने 2012 व 2014 के फाइनल में भी हराया था। ओपन एरा में किसी भी टूर-लेवल प्रतियोगिता में 13 एकल खिताब जीतने वाले नडाल पहले खिलाड़ी हैं।

-इमेज रिफ्लेक्शन सेंटर