कांग्रेस का वायदा-गरीबों को हर वर्ष 72 हज़ार देंगे


नई दिल्ली, 25 मार्च (वार्ता/ जगतार सिंह) : कांग्रेस ने वर्ष 2019 के लोकसभा चुनावों में जनता को लुभाने के लिए सोमवार को एक बड़ा दाव चलते हुए प्रत्येक भारतीय की 12000 रुपए प्रति माह आय सुनिश्चित करने और पांच करोड़ गरीब परिवारों को प्रति वर्ष 72000 रुपए देने की घोषणा की। कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के बाद पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक विशेष संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कांग्रेस ने 21वीं सदी में भारत में गरीबी खत्म करने का संकल्प लिया है। इसके लिए पार्टी दुनिया में अभूतपूर्व और ऐतिहासिक ‘न्यूनतम आय योजना’ लेकर आएगी। कांग्रेस सत्ता में आने के बाद प्रत्येक भारतीय के लिए 12 हज़ार रुपए प्रति माह न्यूनतम आय सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक भारतीय कुछ न कुछ काम कर रहा है और यदि उसकी आय 12 हज़ार रुपए से कम है तो कांग्रेस उसे 12 हज़ार रुपए करेगी। इसके अलावा पार्टी देश के 20 प्रतिशत सबसे गरीब पांच करोड़ परिवारों को वार्षिक रुप से 72 हज़ार रुपए देगी। यह पैसा उनके बैंक खाते में सीधा डाल दिया जाएगा। इससे देश के 25 करोड़ लोगों को लाभ होगा। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इन दोनों योजनाओं को लाभ उस समय तक लोगों को मिलता रहेगा जब वे इसके दायरे से बाहर नहीं हो जाते। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार ने किसानों का ऋण माफ करने की घोषणा की लेकिन उनको महज 3.50 रुपए मिल रहे हैं। कांग्रेस हमेशा अपने वादे पूरे करती है और वादों के अनुसार राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में काम हुआ है। उन्होंने कहा कि न्यूनतम आय योजना से 25 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला जाएगा। इससे पहले पार्टी ने मनेरगा को 14 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला है। यह गरीबी के खिलाफ कांग्रेस का दूसरा और अंतिम ‘हमला’ है जिससे गरीबी भारत से खत्म हो जाएगी। अर्थव्यवस्था पर भार बढ़ने से संबंधित एक सवाल के जवाब में कहा कि अमीरों का लाखों करोड़ों रुपए का ऋण माफ हो सकता है। क्या यह सब्सिडी नहीं है? प्रधानमंत्री देश के सबसे अमीरों लोगों का ऋण माफ कर सकते हैं तो कांग्रेस सबसे गरीब लोगों को पैसा क्यों नहीं दे सकती? राहुल ने कहा कि मोदी दो हिन्दुस्तान बना रहे है जिनमें एक अमीरों का है और दूसरा गरीबों का है। लेकिन कांग्रेस ऐसा हिन्दुस्तान बनाएगी जिसमें सबका सम्मान हो और सबकों समान अधिकार हों। उन्होंने कहा कि इस योजना को तैयार करने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था का गहन अध्ययन किया है और अर्थव्यवस्था इस भार को उठा सकती हैं। उन्होंने कहा कि न्यूनतम आय योजना के लिए देश में पर्याप्त धन उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश लोगों को ‘न्याय’ देगी और उनको उनका हक देगी। यह योजना सामाजिक न्याय के लिए होगी। वहीं कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की सोमवार को हुई बैठक में लोकसभा चुनाव के लिए लाए जा रहे पार्टी के घोषणा-पत्र में शामिल वादों को स्वीकृति प्रदान की गई जिनमें न्यूनतम आय गारंटी योजना प्रमुख है। सीडब्ल्यूसी पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई है। पार्टी इस बार अपने चुनावी घोषणापत्र में न्यूनतम आय गारंटी के तहत गरीब परिवारों को सालाना 72000 रुपए देने, सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण देने सहित कई वादे शामिल करेगी।