पनबस को पी.आर.टी.सी. में चुपके से तबदील करने की प्रक्रिया शुरू


लुधियाना, 24 अप्रैल (भूपिंद्र बैंस) : पंजाब रोडवेज और पनबस कर्मियों में पंजाब सरकार की ओर से पंजाब ट्रांसपोर्ट विभाग का निजीकरण करने के खिलाफ भारी रोष पाया जा रहा है। आज पंजाब गर्वमेंट ट्रासंपोर्ट वर्कर्ज यूनियन एटक की राज्य स्तरीय बैठक यूनियन के कार्यकारिणी प्रधान गुरदेव सिंह की अध्यक्षता में हुई। महासचिव जगदीश सिंह चाहल ने संबोधित करते हुए कहा कि पंजाब सरकार की ओर से एक साल पहले पंजाब रोडवेज को बिल्कुल खत्म करने और पनबस को पी.आर.टी.सी. में तबदील करने की प्रक्रिया शुरू की थी, पर कर्मचारियों के विरोध के कारण इस फैसले को रोक दिया गया, लेकिन अब फिर पंजाब सरकार की ओर पनबस को पी.आर.टी.सी में चुपके से तबदील करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। जिससे कर्मचारियों में भारी रोष पाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस समय में पंजाब में पनबस अधीन 1245 बसें चल रही है। जिनको पंजाब सरकार की ओर से पी.आर.टी.सी. में तबदील करने की योजना बनाई गई है। जबकि पंजाब रोडवेज में सिर्फ इस समय 359 बसें चल रही है, जिनकी हालत बहुत कंडम हो चुकी है और सरकार की ओर से पंजाब रोडवेज में नई बसें डालने की कोई योजना नहीं है, जिसके कारण जैसे-जैसै रोडवेज की बसें कंडम हो कर खडी हो जाएंगी तो अपने आप पंजाब रोडवेज विभाग बंद हो  जाएगा। पनबस को पी.आर.टी.सी. में तबदील करने की प्रक्रिया के खिलाफ कल 25 अप्रैल को पंजाब के सभी 18 बस डिपो में रोडवेज और पनबस कर्मी रोष रैली करेंगें, जबकि 25 अप्रैल को ट्रांसपोर्ट मंत्री के हलके दीनानगर में झंडा मार्च किया जाएगा।