जीएसटी परिषद् ने सिगरेट पर उपकर बढ़ाया


नई दिल्ली, 18 जुलाई (भाषा) : माल एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद् ने सिगरेट पर उपकर बढ़ा दिया है. वित्त मंत्री अरण जेटली ने आज कहा कि जीएसटी दरें तय होने के बाद विसंगति की वजह से सिगरेट विनिर्माता ‘अप्रत्याशित’ लाभ कमा रहे थे और इसी के मद्देनज़र यह कदम उठाया गया है। नए निर्णय के अनुसार जहां सिगरेट पर जीएसटी की 28 प्रतिशत की उच्चतम दर लागू रहने के साथ 5 प्रतिशत का मूल्यानुसार कर भी बना रहेगा, पर इसके अतिरिक्त इस पर लागू मात्रानुसार उपकर की दर बढ़ा दी गयी है। परिषद् के इस निर्णय के अनुसार अब प्रति एक हज़ार सिगरेट स्टिक्स पर मात्रानुसार तय उपकर 485 से 792 रुपये तक बढ़ गया है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिये जीएसटी परिषद् की आपात बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में जेतली ने कहा कि सिगरेट पर उपकर में बढौतरी से सरकार को 5,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा, अन्यथा यह विनिर्माताओं के खाते में जाता।