विपासना व डेरा प्रबंधक कमेटी से होगी पूछताछ


चंडीगढ़, 13 सितम्बर : हरियाणा पुलिस अब डेरा सिरसा की चेयरपर्सन विपासना व डेरा के प्रबंधकों पर शिकंजा कसेगी। पुलिस पूछताछ के लिए जल्द ही विपासना को पूछताछ के लिए बुलाने की तैयारी कर रही है। इसके साथ ही पुलिस डेरा की 45 सदस्यीय प्रबंधन कमेटी के सदस्यों और पदाधिकारियों को भी पूछताछ के लिए बुलाएगी। पुलिस डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की गोद ली बेटी हनीप्रीत तक पहुंचने में अब तक नाकाम रही है और वह उसके लिए एक पहेली बन गई है। पुलिस डेरा सच्चा सौदा को भगाने की साजिश सहित पूरे मामले में मुख्य आरोपी आदित्य इंसा और हनीप्रीत को गिरफ्तार करने के लिए डेरे के पदाधिकारियों पर शिंकजा कसेगी। हरियाणा पुलिस द्वारा अब तक डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के काफिले में शामिल 65 गाड़ियों को जब्त किया जा चुका है। इनमें कई लगजरी गाड़ियां भी शामिल हैं। काफिले में शामिल अन्य गाड़ियों के मालिकों पर शिकंजा कसते हुए उन्हें नोटिस जारी कर दिए गए हैं। बरामद की गई गाड़ियों को पुलिस ने सरकारी कब्ज़ा संपत्ति करार देते हुए अदालती प्रक्रिया को आगे बढ़ा दिया है। 
काफिले में शामिल गाड़ियों के मालिकों की पहचान कर उन्हें भी नोटिस भेज किया तलब : इसके अलावा वीडियोग्राफी के आधार पर काफिले में शामिल अन्य गाड़ियों के मालिकों की भी पहचान कर ली गई है और उन्हें नोटिस भेजकर तलब किया जा रहा है। पुलिस द्वारा इस प्रकरण में अब तक की गई जांच में यह बात सामने आई है कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को पंचकूला कोर्ट परिसर से भगाने की साजिश में पंजाब पुलिस के आठ कर्मचारी संलिप्त थे। जिनमें से तीन कर्मियों को गिरफ्तार किया जा चुका है जबकि पांच अन्यों को जांच में शामिल होने के नोटिस भेजा गया है। जांच में पता चला है कि डेरा मुखी को अदालत से भगाने की साजिश रचने वालों में चंडीगढ़ व राजस्थान पुलिस का एक-एक कर्मचारी भी संलिप्त है। उक्त कर्मचारियों के विरूद्ध भी जांच शुरू कर दी गई है। हरियाणा पुलिस ने इस मामले में अपनी जांच का दायरा बढ़ाते हुए डेरा से जुड़े 45 प्रबंधकों को शामिल करने का फैसला किया है। इसमें मुख्य रूप से डेरा चेयरपर्सन विपासना इंसा भी शामिल होगी। 
सूत्रों के अनुसार विपासना के पास डेरे में हस्ताक्षरों के अधिकार थे। ऐसे में पुलिस का यह मानना है कि वह डेरा मुखी की बड़ी राजदार हो सकती है। जिसके चलते पुलिस अब विपासना इंसा को भी जांच में शामिल करके पंचकूला तलब करने की तैयारी में है। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने अब तक हुई जांच की रिपोर्ट को सार्वजनिक करते हुए कहा कि विपासना को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। पुलिस की जांच सही दिशा में चल रही है और अभी तक कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में वांछित आदित्य इंसा तथा हनीप्रीत की तलाश में पुलिस द्वारा लगातार छापेमारी की जा रही है।
डेरा अनुयायियों को अपनी ज़मानत करवाने के पड़े लाले : दुष्कर्म के मामले में जेल में बंद गुरमीत राम रहीम की अंधभक्ति पंजाब सहित दूसरे राज्यों के सैकड़ों परिवारों को भारी पड़ी है। पंचकूला और सिरसा में आगजनी के बाद 20 दिन से जेलों में बंद इन अनुयायियों से डेरा सच्चा सौदा ने भी पल्ला झाड़ लिया। ऐसे में अब उन्हें अपनी ज़मानत कराने के लाले पड़े हैं। सीबीआई अदालत में 25 अगस्त को गुरमीत राम रहीम पर फैसले के दिन पंचकूला में जमा भीड़ में आधे से अधिक लोग पंजाब के ही थे। उपद्रव में मारे गए 34 लोगों में से सर्वाधिक 12 लोग पंजाब के थे। इसी तरह हिंसा में घायल कुल 264 लोगों में से 150 लोग पंजाब के विभिन्न ज़िलों से यहां पहुंचे थे। इसके अलावा, आगजनी में गिरफ्तार कुल 976 लोगों में से 412 पंजाब के हैं। राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से भी काफी लोग अंबाला सहित दूसरी जेलों में बंद हैं। अब इन लोगों का कोई खैर-ख्वाह नहीं है। आगजनी में गिरफ्तार इन डेरा प्रेमियों को अदालत में पैरवी के लिए वकील करने में भी पसीने छूट रहे हैं। ज्यादातर वकीलों ने इनके केस लड़ने से हाथ खड़े कर दिए। किसी ने हामी भी भरी तो मोटी फीस की एवज में। इधर, डेरा ने इन लोगों को अपना अनुयायी मानने से ही इन्कार कर दिया। कई परिवार ऐसे हैं जिनका मुखिया ही जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गया। ऐसे में उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। ज्यादातर परिजनों को समझ नहीं आ रहा कि कैसे संकट की इस घड़ी से पार पाएं। सरकारों की तरफ से भी इनके लिए पैरवी की कोई गुंजाइश नहीं।
अनुयायियों की खुदकुशी कराने की थी तैयारी, फार्म भरवाने वालों की होगी पहचान : डेरा सच्चा सौदा के सनसनीखेज राज सामने आने का सिलसिला जारी है। इन खुलासों ने जांच टीमों के होश भी उड़ा दिए हैं। खुलासा हुआ है कि गुरमीत राम रहीम के जेल जाने के बाद हज़ारों डेरा अनुयायियों की ‘कुर्बानी’ दिलाने की साजिश थी। डेरा में सर्च ऑपरेशन के दौरान हज़ारों कुर्बानी संबंधी फार्म बरामद किए गए हैं। ये फार्म 10 हजार से अधिक बताए जाते हैं। डेरा द्वारा बड़े स्तर पर कुर्बानी दस्ता तैयार किया गया था। सूत्र बताते हैं कि दस हज़ार से अधिक ये कुर्बानी फार्म बोरों में सीलबंद किए गए हैं। कुर्बानी फार्म में आवेदक की ओर से लिख गया है कि वह डेरा के लिए अपना जीवन बलिदान कर देगा और उसका परिवार कोई क्लेम भी नहीं करेगा। हालांकि डेरे ने कभी ये कुर्बानी फार्म लिए जाने की बात को स्वीकार नहीं किया व फार्म भरवाने वालों की पहचान की जाएगी।आई.टी. प्रमुख से खुलासे के बाद 67 हार्ड डिस्क बरामद
 डेरा सच्चा सौदा के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज जिन हार्ड डिस्क में थीं, उन्हें पुलिस ने तलाश लिया है। पुलिस की गिरफ्त में आ चुके डेरे के आइटी हेड से जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने डेरे के शौचालय के सेफ्टी टैंक से ये हार्ड डिस्क बरामद कीं। वैसे, पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि करने से कतरा रहे हैं। सूत्र बता रहे हैं कि इनकी संख्या 67 है। सिरसा पुलिस ने विनीत को अदालत में पेश कर दो दिन के रिमांड पर ले रखा है। सूत्र बताते हैं कि सिरसा में हुए उपद्रव मामले का कनेक्शन डेरा अनुयायियों से है। उस दिन डेरे से भीड़ निकली थी, जो शाहपुर बेगू व मिल्क प्लांट की ओर गई। बाद में एक बिजलीघर व मिल्क प्लांट को जला दिया गया। करोड़ों रुपये के नुक्सान करने वालों के बारे में सीसीटीवी फुटेज महत्वपूर्ण जानकारी दे सकती है। पंडाल में ही श्रद्धालुओं को उकसाने का काम हुआ है, यह सीसीटीवी फुटेज में मिलेगा। इसी कारण योजनाबद्ध तरीके से सीसीटीवी फुटेज हटा दी गईं।