कमज़ोर वैश्विक संकेतों से लुढ़के शेयर बाज़ार


मुम्बई, 18 जून (वार्ता): अधिकतर विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के बीच धातु, बेसिक मैटेरियल्स और दूरसंचार समूहों में हुई बिकवाली के दबाव में बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 73.88 अंक की गिरावट में 35,548.26 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 17.85 अंक की गिरावट में 10,799.85 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स 76.29 अंक की बढ़त में 35,698.43 अंक पर खुला। कारोबार के शुरुआती घंटे में यह 35,721.55 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक गया, लेकिन अमेरिका और चीन के बीच बढ़ी तनातनी के दबाव में यह 35,518.73 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस के मुकाबले 0.21 प्रतिशत की गिरावट में 35,548.26 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 20 कंपनियाँ गिरावट में और 10 तेजी में रहीं। निफ्टी भी 12.50 अंक की तेजी में 10,830.20 अंक पर खुला और यही इसका दिवस का उच्चतम स्तर भी रहा। बिकवाली के दबाव में यह 10,787.35 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.17 प्रतिशत की गिरावट में 10,799.85 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 30 कंपनियाँ गिरावट में और 20 तेजी में रहीं। विश्लेषकों के मुताबिक, चीन के उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने के अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान और बदले में चीन द्वारा अमेरिकी सामानों पर आयात शुल्क बढ़ाने की घोषणा से वैश्विक व्यापार युद्ध की आशंकाएं बढ़ गई हैं। इससे एशियाई बाजार ढाई सप्ताह के निचले स्तर तक लुढ़क गये। चीन और हांगकांग के शेयर बाजार ड्रैगन बोट त्योहार के अवकाश के उपलक्ष्य में बंद हैं जबकि जापान के निवेशकों को अमेरिका की संरक्षणवादी नीति की चिंता है। ट्रंप ने गत शुक्रवार को चीन के 800 से अधिक उत्पादों पर छह जुलाई से 25 प्रतिशत का आयात शुल्क लगाने की घोषणा की । चीन ने इसका करारा जवाब देते हुये कहा कि श्री ट्रंप के साथ व्यापार के मुद्दे पर पहले हुई सभी बातचीत अब बेमानी है। चीन ने साथ ही कच्चा तेल, सोयाबीन से लेकर वाहनों तक के 659 अमेरिकी उत्पादों पर  25 प्रतिशत का आयात शुल्क लगाने की घोषणा की है। वैश्विक व्यापार युद्ध की आशंकाओं और अमेरिका के कच्चे तेल को आयात शुल्क के दायरे में लाने के चीन के बयान से कच्चे तेल के भाव लुढ़क गये। दिग्गज कंपनियों की तरह मँझोली और छोटी कंपनियों में भी बिकवाली का दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 0.18 प्रतिशत यानी 29.10 अंक की गिरावट में 15,972.10 अंक पर और स्मॉलकैप 0.77 प्रतिशत यानी 130.49 अंक की गिरावट में 16,830.67 अंक पर बंद हुआ।बीएसई में कुल 2,796 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,710 में गिरावट और 931 में तेजी रहीं जबकि 155 कंपनियों के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे। विदेशी बाजारों में गिरावट का रुख रहा। यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.15 प्रतिशत की तेजी में और जर्मनी का डैक्स 0.98 प्रतिशत की गिरावट में रहा। जापान की निक्की 0.75 प्रतिशत और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 1.16 प्रतिशत की गिरावट में रहा। बीएसई के 20 समूहों में छह समूहों के सूचकांक में तेजी रही। पीएसयू में 0.25,स्वास्थ्य में 0.07, ऊर्जा में 0.47,ऑटो में 0.33, बैंकिंग में 0.12 और तेल एवं गैस में 1.25 प्रतिशत की तेजी रही।
वहीं बेसिक मैटेरियल्स में 1.16,सीडीजीएस में 0.02, एफएमसीजी में 0.33, वित्त में 0.14, इंडस्ट्रियल्स में 0.45, आईटी में 0.80, दूरसंचार में 1.03,यूटिलिटीज में 0.17, पूंजीगत वस्तुओं में 0.58, सीडी में 0.68, धातु में 1.72, बिजली में 0.11,रिएल्टी में 0.13 और टेक में 0.73 प्रतिशत की गिरावट रही। सेंसेक्स की 10 कंपनियों में तेजी रही, जिनमें आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों के भाव 3.61, टाटा मोटर्स के 1.83, बजाज ऑटो के 0.98, मारुति के 0.46, एनटीपीसी के 0.42, इंडसइंड बैंक के 0.37, महिंद्रा एंड महिंद्रा के 0.31, यस बैंक के 0.29, पावर ग्रिड के 0.20 और रिलायंस के 0.11 प्रतिशत बढ़ गये। वेदांता लिमिटेड के शेयरों में सबसे अधिक 2.70, कोटक बैंक में 1.97, भारती एयरटेल में 1.67, कोल इंडिया में 1.59, एक्सिस बैंक में 1.13, टाटा स्टील में 1.28, इंफोसिस में 1.09, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.70, ओएनजीसी में 0.66, अदानी पोटर्स में 0.58, टीसीएस में 0.58, एचडीएफसी बैंक में 0.46, एल एंडटी में 0.42, एचडीएफसी में 0.38, विप्रो में 0.34,हीरो मोटोकॉर्प्स में 0.25, भारतीय स्टेट बैंक में 0.25, एशियन पेंट््स में 0.24, आईटीसी में 0.13 और सन फार्मा में 0.04 प्रतिशत की गिरावट रही।