पाक द्वारा करतारपुर गलियारा का निर्माण 35 फीसदी से अधिक पूरा



सुरिन्दर कोछड़
अमृतसर, 15 जनवरी : पहली पातशाही  श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव मौके भारतीय सिख संगत को गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब करतारपुर के लिए गलियारा मुहैया करवाने हेतु पाकिस्तान की ओर शुरू किए गए गलियारे का निर्माण कार्य 35 फीसदी से अधिक मुकम्मल हो चुका है। यह जानकारी पाकिस्तान के धार्मिक मामलाें व अंतरविश्वास मामलों के मंत्री मौलाना नूर-उल-हक कादरी ने ज़िला नारोवाल में गलियारे के चल रहे निर्माण का दौरा करने के पश्चात् दी। इस अवसर पर इवैकुई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के अतिरिक्त सचिव तारिक वज़ीर, अमीर हाशमी, पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष बिशन सिंह व अन्य अधिकारी भी शामिल थे। नारोवाल से ‘अजीत समाचार’ को इस बारे जानकारी देते हुए नासिर ढिल्लों व भूपिंदर सिंह लवली ने बताया कि मौलाना कादरी ने गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब पहुंचने पर सबसे पहले गुरुद्वारा साहिब में गुरु नानक देव जी की मज़ार व समाधि के दर्शन किए और वहां फूलों के गुलदस्ते भेंट किए। उन्होंने वहां चल रहे निर्माण कार्य का जायज़ा लेने के पश्चात् बताया कि निर्माण का जो कार्य अक्तूबर माह तक मुकम्मल किया जाना था, को निर्धारित समय से पहले मुकम्मल कर लिया जाएगा। उन्होंने निर्माण करवा रही फ्रंटियर वर्क्स एसोसिएशन (एफ.डब्ल्यू.ओ.) के अधिकारियों के साथ भी बातचीत की और काम में तेज़ी लाने के निर्देश दिए। कादरी ने बताया कि गलियारे के निर्माण कार्य के साथ-साथ 20 अन्य प्रोजैक्ट शुरू किए जाने की योजना बनाई गई है, जिसके चलते गुरुद्वारा जन्म अस्थान श्री ननकाना साहिब में 100 कमरों वाली यात्री सराय का निर्माण किया जाएगा। श्री ननकाना साहिब के रेलवे स्टेशन से गुरुद्वारा जन्म अस्थान तक डिग्री कालेज के नीचे एक सुरंग बनाई जाएगी जिसके लिए ई.टी.पी.बी. व पंजाब सरकार के चीफ सचिव इसी सप्ताह बैठक कर इस बारे एक रिपोर्ट तैयार कर अगली कार्रवाई हेतु उन्हें सौंपेंगे। उन्होंने बताया 550वें प्रकाशोत्सव मौके यात्रियों को बिजली की समस्या से निजात दिलाने के लिए एक बड़ा जनरेटर भी लगाया जाएगा। मौलाना कादरी के अनुसार प्रकाशोत्सव से पूर्व लाहौर के गुरुद्वारा डेरा साहिब के बाहरी रूप में बदलाव करने की भी योजना बनाई गई है।
इस अवसर पर बातचीत करते हुए तारिक वजीर ने बताया कि गलियारे का निर्माण कार्य दो चरणों में मुकम्मल किया जाएगा। इसके पहले चरण के शुरू किए गए निर्माण के दौरान वेईं नाले तक के रास्ते को समतल करके सड़क का बेस तैयार किया जा चुका है। इसके साथ ही रास्ते में आते दरिया रावी पर पुल बनाने की भी तैयारी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब से भारतीय बार्डर टर्मीनल तक आते लगभग 4 किलोमीटर लम्बे रास्ते पर एक तरफा पक्की सड़क बनाने के साथ-साथ गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब में पहुंचने वाले भारतीय यात्रियों के लिए शापिंग मॉल, विश्राम घर, गैलरी, इमीग्रेशन व स्वास्थ्य सेवाएं केन्द्र स्थापित किए जाने की कार्रवाई आगामी महीनों में शुरू की जाएगी।  इसके अलावा निर्माण के दूसरे चरण में गलियारों वाली सड़क के दोनों तरफ यात्रियों की सुरक्षा हेतु कंटीली तार व होटल तथा सराय के साथ-साथ गुरुद्वारा साहिब के चारों ओर ऊंची दीवार भी बनाई जाएगी।

करतारपुर गलियारा मुद्दे पर गृह मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक
नई दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) : पाकिस्तान के करतारपुर स्थित दरबार साहिब तक श्रद्धालुओं की सुगम आवाजाही के लिए करतार साहिब गलियारे को खोलने के मुद्दे पर गृह मंत्रालय में आज एक उच्च स्तरीय बैठक हुई जिसमें पंजाब सरकार और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।
यह गलियारा पंजाब के डेरा बाबा नानक से सीमा के उस पर करतारपुर स्थित दरबार साहिब तक बनाया जाना है। भारतीय क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सीमा तक गलियारे का विकास भारत सरकार करेगी। पाकिस्तान सरकार ने भी सीमा पार गलियारे के विकास की हामी भरी है।  गृह सचिव राजीव गौबा ने आज यहां हुई इस बैठक की अध्यक्षता की। इसमें पंजाब के मुख्य सचिव करण अवतार सिंह, पाकिस्तान में भारतीय राजदूत अजय बिसारिया और बीएसएफ के महानिदेशक रजनीकांत मिश्रा मौजूद थे।  सूत्रों ने बताया कि गलियारे के लिए भूमि अधिग्रहण पर भी बैठक में चर्चा हुई और श्री सिंह ने आश्वासन दिया कि जल्द से जल्द भूमि अधिग्रहण का काम पूरा कर लिया जायेगा। श्री बिसारिया ने पाकिस्तान सरकार की तरफ से सीमा पार उठाये जा रहे कदमों से अवगत कराया। बीएसएफ के महानिदेशक और खुफिया विभाग के अधिकारियों ने भी सुरक्षा चिंताओं और यात्रियों की सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के रोडमैप के बारे में बताया।  बैठक के बाद श्री मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को मानक प्रक्रिया तैयार करने के लिए खुफिया एजेंसियों के साथ बातचीत चल रही है।  परियोजना के तहत राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण गलियारे का निर्माण करेगा। यह गलियारा चार लेन का होगा और साथ में सर्विस रोड तथा समुचित जनसुविधायें भी होंगी। इस पर आने वाले पूरे खर्च का वहन केंद्र सरकार करेगी।