पशु अस्पतालों व डिस्पैंसरियों को भी संभालना होगा मैडीकल कूड़ा


जालन्धर, 10 मार्च (शिव शर्मा): एन.जी.टी. (नैशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) के सख्त निर्देशों के बाद पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने अब अस्पतालों के बाद राज्य के सभी पशु अस्पतालों व डिस्पैरियों को अपना मैडीकल कूड़े की संभाल के लिए इनको कूड़ा समाप्त करने वाले प्लांट में भेजने के निर्देश करने जा रहा है ताकि पशु अस्पतालों व डिस्पैंसरियों का जो मैडीकल कूड़ा है वह आम कूड़े से मिलकर बीमारियां फैलाने का कारण न बने। अभी तक मैडीकल कूड़े को जला कर समाप्त करने वाले प्लांट में सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों द्वारा अपना मैडीकल कूड़ा भेजा जाता था। इसमें कुछ चुनिंदा पशु अस्पताल शामिल थे जोकि अपना मैडीकल कूड़ा इन प्लांट में जलाने के लिए भेजते थे। पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि अब राज्य के सभी पशु अस्पतालों को इस आदेश की पालना करनी होगी कि अपना मैडीकल कूड़ा राज्य के अलग-अलग प्लांट में भेजना होगा। सभी अस्पतालों को यह भी यकीनी बनाने के लिए कहा गया है कि आप्रेशनों के लिए उपयोग किये जाने वाले पानी व अन्य निकलते पानी को साफ करने के लिए अस्पतालों में ट्रीटमैंट प्लांट लगाए जाएं। राज्य के कई अस्पतालों वालों ने अपने प्लांट लगा लिए हैं जोकि अपना पानी साफ करके ही सीवरेज प्लांट में डाल रहे हैं। इसके अलावा कुछ डिस्पैंसरियों को इसकी हिदायत दी गई थी। अब ग्रामीण डिस्पैंसरियों को अपना निकलता मैडीकल कूड़ा जला कर समाप्त करने के लिए प्लांट में भेजना होगा। इसलिए जल्दी ही बोर्ड द्वारा निर्देश जारी होने जा रहे हैं। पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी स. हरबीर सिंह का कहना था कि इस बारे बोर्ड द्वारा बकायदा निगरानी सैल बनाया जाएगा। इस समय मोहाली, पठानकोट, लुधियाना, अमृतसर व मुक्तसर में मैडीकल कूड़े को जला कर समाप्त करने के प्लांट काम रहे हैं।