सुरक्षा बलों की सुरक्षा में भारतीय किसान कंटीली तार के दूसरी तरफ कर रहे गेहूं की कटाई


अमृतसर, 25 अप्रैल (सुरिन्द्र कोछड़) : अमृतसर के सीमावर्ती गांवों के किसानों ने बी.एस.एफ. की सुरक्षा में सीमा पर लगी कंटीली तार के दूसरी तरफ गेहूं की कटाई शुरू कर दी है। बी.एस.एफ. अधिकारियों ने सीमावर्ती गांवों के किसानों के साथ लगातार बैठकें करके उनको गेहूं काटने के लिए कहा ताकि वर्षा और आंधी से पहले फसल संभाली जा सके। तार के दूसरी तरफ जाने के लिए बकायदा किसानों के शिनाख्ती कार्ड बने हुए हैं और अपने खेतों में जाने के उपरांत तयशुद्धा समय पर उनको वापिस आना पड़ता है। इसलिए कंटीली तार के दूसरी तरफ वाली ज़मीन पर कृषि सीमा सुरक्षा बलों पर निर्भर करती है। यह भी बताया जा रहा है कि पंजाब में भारत की पाकिस्तान से 553 किलोमीटर लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा है, जिसमें 300 सुरक्षा गेट बने हुए हैं। पंजाब में भारतीय किसानों की कंटीली तार के दूसरी तरफ 11 हज़ार एकड़ ज़मीन है यहां किसान कृषि के लिए जाते हैं और इस सीमा के अधीन अमृतसर, गुरदासपुर, तरनतारन, फिरोज़पुर, पठानकोट और फाज़िल्का ज़िले आते हैं।अमृतसर के सीमावर्ती गांवों में राणीयां, कक्कड़, मंझ, रोड़ांवाला, बच्चीविंड, धालीवाल ऊधर और मोदे धनोए आदि के किसानों ने ‘अजीत समाचार’ से बातचीत करते हुए बताया कि उनकी सैंकड़ों एकड़ ज़मीन तार के दूसरी तरफ है यहां कृषि करने के लिए उनको बी.एस.एफ. वालों से मंज़ूरी लेकर जाना पड़ता है।