राज्य में गर्मी ने बिजली की मांग को किया प्रभावित


पटियाला, 29 जून (अ.स.) : राज्य में बढ़ती गर्मी के कारण जहां तापमान 44  डिग्री पहुंच चुका है वहीं राज्य में बिजली की मांग भी 13 हज़ार मैगावाट के आंकड़े नज़दीक पहुंच चुका है। इस मौके पर जहां किसान धान की रोपाई और गर्म मौसम से राहत के लिए बरसात का इंतजार कर रहे हैं, उधर बिजली की मांग को अपने साधनों से पूरा कर रहा है पर अगर मौसम में गर्माहट इसी तरह बढ़ी रही तो बिजली निगम के लिए बिजली संकट का खतरा भी मंडरा सकता है। इस समय बिजली निगम  के अपने सरकारी बिजली ताप घरों से कुल 1057 मैगावाट जिसमें रोपड़ स्थित श्री गुरु गोबिंद सिंह सुपर ताप बिजली घर के 2 यूनिटों में 405 मैगावाट और लहिरा मुहब्बत स्थित गुरु हरगोबिंद साहिब ताप बिजली घर के 3 यूनिटों से 651 मैगावाट बिजली प्राप्त की जा रही है। बिजली निगम को पन बिजली घरों से करीब 946 मैगावाट के करीब बिजली प्राप्त हो रही है। जिसमें क्रमवार रणजीत सागर डैम के 3 यूनिटों से 423 मैगावाट, अपरबारी दोआब कैनाल प्रोजैक्ट से 83 मैगावाट, हिमाचल के जोगिंदर नगर स्थित शानन पन बिजली घर से 104 मैगावाट, आनंदपुर साहिब के पन बिजली घरों के दो यूनिटों से 119 मैगावाट और मुकेरियां पन बिजली घर से 216 मैगावाट बिजली प्राप्त की जा रही है। इस समय निजी ताप बिजली घरों में राजपुरा के नलास ताप बिजली घर के 2 यूनिटों से 1317 मैगावाट, तलवंडी साबो के ताप बिजली घर के 3 यूनिटों से 1833 मैगावाट और गोईंदवाल साहिब जीवीके के ताप बिजली घर के 2 यूनिटों से 504 मैगावाट बिजली प्राप्त की जा रही है। इस समय निजी ताप घरों में कुल 3661 मैगावाट बिजली खरीदी जा रही है। उन ताप घरों के अलावा नवनिर्माण स्त्रोतों से 251 मैगावाट बिजली की प्राप्ति हो रही है। उपरोक्त सारे साधनों से 5915 मैगावाट के लगभग बिजली मिल रही है।