मुख्यमंत्री द्वारा ज़िलाधीशों को विकास के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी व बिजली जैसे क्षेत्रों को प्राथमिकता देने के आदेश


चंडीगढ़, 14 फरवरी (अ.स.): पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने आज ज़िलाधीशों को प्रदेशवासियों के स्तरीय जीवन को यकीनी बनाने के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली व पानी के प्रमुख क्षेत्रों को प्राथमिकता देने के लिए कहा। आज यहां पंजाब भवन में समूह ज़िलों के ज़िलाधीशों से बैठक की अध्यक्षता करते हुए कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने अधिकारियों को इन प्रमुख सैक्टरों से संबंधित विभिन्न विकास व कल्याण योजनाओं की व्यापक निगरानी करने के आदेश दिए हैं ताकि ऐसे कार्यक्रमों के अमल को यकीनी बनाया जा सके। मुख्यमंत्री ने ज़िलाधीशों को प्रदेश के लिए सरकार द्वारा निर्धारित एजैंडे की पटरी पर लोगों की ख्वाहिशों की पूर्ति के लिए विकास व कल्याण प्रोजैक्टों में तेज़ी लाने के लिए कमर कसने के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि जम्हूरियत में चुने हुए प्रतिनिधियों को सम्मान देना ज़रूरी है और उन्होंने अधिकारियों को मिलने मौके अच्छा रवैया अपनाने व चुने हुए प्रतिनिधियों को बनता सम्मान देने के लिए कहा ताकि सर्वपक्षीय विकास को यकीनी बनाया जा सके। प्रशासकीय सुधार विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विनी महाजन ने बैठक के दौरान बताया कि प्रदेश में 515 सेवा केन्द्र चल रहे हैं और सभी ज़िलों में हासिल हुए 2,60,4975 आवेदनों में से 42261 आवेदन ही बकाया हैं। उन्होंने बताया कि सेवाएं मुहैया करवाने के मौजूदा माडल के तहत सेवा केन्द्रों का प्रोजैक्ट स्वै:निर्भर हैं और इसका वित्त विभाग पर कोई बोझ नहीं। मुख्यमंत्री ने ज़िलाधीशों के साथ बाढ़ की रोकथाम की तैयारियों का जायज़ा भी लिया और मुख्य सचिव को मानसून के मौसम की शुरुआत से पहले ही बाढ़ की रोकथाम संबंधी विभिन्न कार्य, विशेषकर संवेदनशील स्थानाें पर चलाने के लिए ज़िलाधीशों को पर्याप्त फंड देने का इंतज़ाम करने के लिए भी कहा।