सहेज कर रखें आर्टीफिशियल ज्वेलरी 

आर्टीफिशियल ज्वेलरी को देखकर कोई यह नहीं कह सकता कि यह नकली है। यह नकली है या असली, इस बात की जानकारी सिर्फ पहनने वाले को ही होती है। 
बाजार में एक से एक तथा नये-नये डिजाइन की नकली ज्वेलरी देखी जा सकती है। इसकी चमक के सामने कई बार असली जेवर भी मात खा जाते हैं। इन ज्वेलरी में सिर्फ एक ही बात की कमी होती है कि यदि इसकी देखभाल सही तरीके से न की जाए तो इनकी चमक पर पानी फिरते देर नहीं लगती लेकिन यदि आप इन्हें सहेज कर रखेंगे तो सालों साल यह आपका साथ देने के लिए तैयार है। यदि आप निम्नलिखित बातों का ध्यान रखेंगे तो इन्हें बरसों तक बरकरार रख सकते हैं।
द्ध सर्वप्रथम यह बात अधिक ध्यान रखने योग्य है कि जिन डिब्बों में आप इन्हें खरीद रहे हैं उन डिब्बों को आप सम्भाल कर रखें तथा ज्वेलरी इस्तेमाल करने के पश्चात उसी डिब्बे में सहेज कर रखें ताकि गहनों पर कोई खरोंच न आए और वे सही तरीके से रखे जा सकें।
द्ध गहने पहनते समय इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि उन पर परफ्यूम स्प्रे न करें क्योंकि इससे इसकी चमक जाती रहेगी।
द्ध नकली गहनों में कई तरह के डिजाइन होते हैं जैसे किसी में नग होता हैं तथा किसी में मोती, इसलिए इन्हें रखते समय जहां तक हो अलग-अलग ही रखें ताकि कोई भी गहना आपस में टकराकर टूट न जाए।
द्ध यदि आपको पसीना अधिक आता है तो इन्हें रखते समय सूती नरम कपड़े या रूई से साफ करने के पश्चात ही रखें।
द्ध यदि किसी गहने के साथ डिब्बा न आया हो तो उन्हें रखते समय रूई में लपेट कर रखें।
द्ध इन जेवरों का प्रयोग नहाते समय कदापि न करें। 
द्ध इन गहनों को साफ करने के लिए भूलकर भी नींबू खटाई या तेजाब का इस्तेमाल न ही करें तो बेहतर होगा। इन्हें साफ करने के लिए बोरिक एसिड का प्रयोग करें। 
द्ध इन गहनों की पॉलिश फीकी पड़ते ही इन पर पॉलिश अवश्य करवाएं अन्यथा ये पहनने योग्य नहीं रहते।
द्ध गहने खरीदते समय भी इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि वे जल्दी टूटने या खराब होने वाले तो नहीं हैं।  उर्वशी)