रवायती खेती से मछली पालन का काम करके ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं किसान


फार्म बनाने के लिए पंजाब सरकार दे रही है 50 फीसदी सब्सिडी
गुरदासपुर, 4 दिसम्बर (भागदीप सिंह गोराया) : पंजाब सरकार के मछली पालन विभाग द्वारा गुरदासपुर के निकट गांव हयात नगर में 1974 में मछली फार्म बनाया गया था। इस मछली फार्म का कुल एरिया 16.5 एकड़ है व जिस  एरिया में मछली का बीज तैयार किया जाता है, उस एरिया को बड़े-बड़े तालाबों में तबदील किया गया है। जिस का कुल एरिया 8 एकड़ बना है। इस मछली फार्म का ‘अजीत समाचार’ की टीम द्वारा दौरा करने पर इकट्ठी की जानकारी के अनुसार इस फार्म में कुल पांच किस्मों की मछली का बीज तैयार किया जाता है। जिस में तीन किस्में देसी मछली की है जोकि राहु, कतला व मिराक है। जबकि दो किस्में बाहरी है जो कामन कारक व गरास कारक है। पूरे पंजाब में इसी तरह के कुल 14 फार्म है। इस संबंधी बातचीत करते हुए मत्स्य प्रसार अधिकारी सरवण सिंह ने बताया कि इस फार्म पर इस साल पंजाब के सारे फार्मों से ज्यादा एक करोड़ 9 लाख 14 हज़ार मछली का बीज तैयार किया गया है जोकि एक रिकॉर्ड तोड़ पैदावार है। उन्होंने बताया कि इस फार्म से हर महीने पांच दिन किसानों को मुफ्त सिखलाई भी दी जाती है व इस वर्ष में कुल 252 किसान सिखलाई ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि जो किसान एक एकड़ से मछली फार्म शुरू करता है, उस पर 1 लाख 60 हज़ार के करीब लागत आती है व पंजाब सरकार द्वारा एक एकड़ से फार्म शुरू करने वाले किसानों को 50 फीसदी सब्सिडी भी दी जाती है। उन्होंने बताया कि अगर उस किसान को बिजली के कनैक्शन की ज़रूरत होती है तो मत्स्य विभाग उस को पहले के आधार पर बिजली का कनैक्शन भी मुहैया करवाती है। इस मौके सरवण सिंह ने कहा कि उनके फार्म पर मछली का एक हज़ार बीज सब्सिडी रेटों पर 100 रुपए में उपलब्ध है। जिसका किसान भरपूर फायदा उठा सकते हैं।