रिश्तों में आप कितना निवेश करती हैं ? 


क्या आप रिश्तों में गर्मजोशी बनाये रखने में यकीन करती हैं? क्या आपको सिर्फ  देना ही अच्छा लगता है, दूसरों से कुछ लेना आपको बहुत भारी लगता है? या किसी को कुछ देने के नाम पर आप परेशानी में पड़ जाती हैं। रिश्तों में आप कितना निवेश करती हैं, इस विषय से संबंधित क्विज़ के जरिये अपने आपको परखिए और जानें-
1. आपको हमेशा लगता है कि अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को आप ही फोन करती हैं, वे आपको कभी फोन नहीं करते आप-
क. इस बारे में ज्यादा नहीं सोचतीं और अपनी आदत के अनुसार उन्हें फोन 
करती हैं।
ख. फोन तो करती हैं लेकिन उन्हें यह जता देती हैं कि उन्हें भी कभी-कभी फोन करना चाहिए।
ग. अगर वे आपको फोन नहीं करते तो आप उन्हें अपने दोस्ती या रिश्ते के लायक नहीं समझतीं
2. ऑफि स में आपके सहकर्मी से अगर कोई गलती हो जाती है तो-
क. उसे ठीक करने में मदद करती हैं लेकिन बॉस को यह बता देती हैं कि यह आपकी गलती नहीं थी।
ख. आप उसे मदद करने के लिए कहती हैं और बॉस को पता लगे इससे पहले ही गलती सुधार देती हैं।
ग. अपनी गलती वह खुद सुधारे सोचकर छोड़ देती हैं।
3. आपकी दोस्त किसी पर्यटन स्थल पर घूमने जाने के दौरान आपके लिए एक अच्छा गिफ्ट लेकर आती हैं ऐसे में आप-
क. उससे गिफ्ट लेने में हिचक महसूस करती हैं, क्योंकि आपको लगता है उसके बदले में आपको भी कुछ देना पड़ेगा।
ख. उसका शुक्त्रिया अदा करती हैं।
ग. उसके गिफ्ट देने के पीछे कोई न कोई स्वार्थ होगा ऐसा सोचती हैं।
4. आपका पड़ोसी पिछले एक सप्ताह से अस्पताल में भर्ती है ऐसे में आप-
क. फोन पर ही उसका हाल-चाल जान लेती हैं।
ख. वक्त निकालकर उसे देखने जाती हैं।
ग. रोज़ जाने का प्रोग्राम बनाती हैं लेकिन जा नहीं पातीं।
5. आप जब शॉपिंग के लिए बाजार जाती हैं तो घर परिवार के लोगों के लिए कुछ उपहार खरीदती हैं-
क. हां, अक्सर, ख. नहीं, ग. कभी-कभी
निष्कर्ष : क- 25 से 30- किसी से कुछ लेना भी उतना महत्वपूर्ण है जितना किसी को कुछ देना आपके अंकों का स्कोर बताता है कि आप हमेशा देने में यकीन करती हैं। आपको लेना अच्छा नहीं लगता। ऐसा भी हो सकता है कि आपकी मंशा ही न हो कि दूसरे भी आपको कुछ दें। सिर्फ  देकर नहीं लेकर भी रिश्तों में सम्मान मिलता है। आपको अपने भीतर थोड़ा बदलाव करने की ज़रूरत है।
ख- 15 से 27- रिश्तों में लेनदेन की बातों में आपका व्यवहार संतुलित है। अगर आप देने का कर्त्तव्य समझती हैं तो आपको सामने वाले से भी लेने का पूरा हक है और अगर आप कुछ देती हैं तो बदले में आपको कुछ न कुछ मिलना चाहिए। 
ग- 0 से 14- आप सिर्फ  देने में विश्वास करती हैं, किसी को कुछ देने की आपकी कोई मंशा ही नहीं होती। अगर आप दूसरों को कुछ देने की कोशिश करेंगी तो इससे आपको दिली सुकून तो मिलेगा ही, जिंदगी भी खुशहाल बनेगी।

-इमेज रिफ्लेक्शन सेंटर 
—प्रस्तुति-पिंकी अरोड़ा