समर्थन मूल्य बढ़ने से चीनी 200 रुपए उछली


नई दिल्ली, 17 फरवरी (एजेंसी): सप्ताह के उत्तरार्द्ध में सरकार द्वारा चीनी उद्योग को बचाने के लिए बिक्री हेतु समर्थन मूल्य 200 रुपए बढ़ा दिया गया, जिसके चलते मिलों में भी दो दिनों के अंतराल 175/200 रुपए प्रति क्विंटल की तेजी आ गयी है, लेकिन बढ़े भाव में ग्राहकी कमजोर होने से अंतिम दिन ही बाजार ठहर गये क्योंकि चीनी उत्पादन अधिक होने एवं पुराना स्टॉक अधिक बचने से इस तेजी टैम्प्रेरी लग रही है। माल बेचकर मुनाफा कमाना लाभदायक रहेगा। गत सप्ताह सरकार द्वारा चीनी उद्योग को प्रोत्साहन देने के लिए 200 रुपए बिक्री हेतु समर्थन मूल्य बढ़ाकर 3100 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया गया यानि चीनी मिलें 3100 से कम में माल नहीं बेच पाएंगी। यह खबर आते ही चौतरफा दो दिनों के अंतराल मिलों ने 175/200 रुपए बढ़ाकर यूपी में 3240/3250 रुपए एवं महाराष्ट्र-कर्नाटक में 3175/3240 रुपए तक डीओ के भाव बोल दिये। इसके चलते बाजारों में भी 200 रुपए की तेजी आ चुकी है। अभी यूपी-हरियाणा, पंजाब व राजस्थान, महाराष्ट्र, कर्नाटक आदि देश के सभी राज्यों में स्टॉकिस्ट लिवाली करने में लगे हुए हैं, जिससे 50/60 रुपए क्विंटल की और तेजी आ सकती है। ़गौरतलब है कि यह सब बड़ी वितरक मंडियों की मांग निकलने एवं समर्थन मूल्य बढ़ने का परिणाम है। जबकि वास्तविक खपत की तेजी नहीं है। इसे देखते हुए ज्यादा स्टॉक वर्तमान भाव पर नहीं करना चाहिए। चीनी का उत्पादन इस बार 350-355 लाख टन के करीब होने का अनुमान लगाया जा रहा है। यह गत वर्ष 324 लाख टन हुआ था। पिछली चीनी करीब 90-92 लाख टन बचने का अंदेशा आ रहा है।