अध्यापकों को हो रही दोहरी परेशानी, पेपर चैकिंग के साथ देनी पड़ेगी चुनावी ड्यूटी


जालन्धर, 18 अप्रैल (चन्दीप भल्ला): पंजाब सरकार द्वारा अध्यापकों से पढ़ाई संबंधी कम व अन्य अतिरिक्त काम अधिक लिए जाते रहते हैं जिससे सरकार के विरुद्ध अक्सर अध्यापकों का विरोध देखने को मिलता रहता है। इस बार भी अध्यापकों को दोहरी परेशानी झेलनी पड़ रही है। अध्यापकों की इस समय जहां एक तरफ 10वीं व जमा-2 के पेपर चैकिंग पर ड्यूटी लगी हुई है वहीं साथ ही दूसरी ओर उनके हाथ 23 व 24 अप्रैल को चुनाव ड्यूटियों संबंधी रिहर्सलों पर पहुंचने के पत्र को पहुंच गए हैं जिससे उनकी परेशानी और बढ़ गई है। हाल ही में स्कूलों को नए सत्र की शुरुआत हुई है, परन्तु दूसरी ओर इन दोनों ड्यूटियों के कारण सत्र के शुरुआत से ही बच्चों की पढ़ाई पर बुरा असर पड़ता नज़र आ रहा है क्योंकि इस समय पंजाब भर के स्कूलों में सभी सरकारी स्कूलों के अध्यापकों की चुनाव ड्यूटियों संबंधी पत्र आ गए हैं जिससे कुछ स्कूलों में एक या दो ही अध्यापक बच्चों की पढ़ाई देखने के लिए रह गए हैं शेष सभी की चुनाव ड्यूटी लगा दी है जिससे अध्यापक दोहरी मुसीबत में फंस गए हैं। यदि वे पेपर चैकिंग के लिए नहीं जाते तो परिणामों में देरी तो होती ही है साथ ही उनको शिक्षा अधिकारियों की बेरुखी का सामना करना पड़ता है। यदि वह चुनाव ड्यूटी पर नहीं जाते तो उनको ज़िला चुनाव अधिकारी की नाराज़गी का सामना करना पड़ता है तथा साथ ही यह भी डर है कि कहीं चुनाव ड्यूटी न देने के कारण उन पर पर्चा दर्ज न करवा दिया जाए।