चीनी लुढ़कने के बाद थोड़ी सुर्ख : गुड़ सुस्त


नई दिल्ली, 8 दिसम्बर (एजेंसी) गत सप्ताह के पूर्वार्द्ध मिलों में चीनी की बिकवाली का जबरदस्त प्रेशर बना रहा, जिससे  50/75 रुपए प्रति क्विंटल का और मंदा आ गया, लेकिन उत्तरार्द्ध में घटे भाव पर लिवाली निकलते ही 20/25 रुपए बढ़ाकर डीओ के भाव बोलने लगे तथा 25/30 रुपए की और मजबूती के आसार बनने लगे हैं। इससे ज्यादा तेजी नहीं टिकेगी। आलोच्य सप्ताह चालू माह का कोटा अधिक की दहशत में बिकवाली का प्रेशर यूपी, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक सभी राज्यों की मिलों में बढ़ गया, जिसके चलते 50/75 रुपए लुढ़ककर क्वालिटीनुसार चीनी के भाव 3200/3280 रुपए प्रति क्विंटल रह गये। यूपी की मिलों में एवरेज चीनी का डीओ नीचे में 3200/3220 रुपए प्रति क्विंटल बन गया था, जो सप्ताह के अंत में 3240/3245 रुपए बनने की खबर थी। इसी तरह अन्य राज्यों में भी चीनी के भाव थोड़ा मजबूत हो गये। गौरतलब है कि मिलों में रुपए की तंगी को देखकर उत्पादन कम की हवा जोरों पर उड़ाई जा रही है, जबकि यह बात छिपाई जा रही है कि गत वर्ष समान अवधि की तुलना में चीनी की रिकवरी 0.30 प्रतिशत अधिक बैठ रही है। पुराने गन्ने की आवक भी तेजी से बढ़ने लगी है, क्योंकि किसान खेत खाली करके उसमें गेहूं की बिजाई करने के लिए उतावले हो चुके हैं। मिलों में गन्ने की आवक इस बार थोड़ी कम जरूर हुई है, इसका मुख्य कारण बिहार से आने वाले कामगारों की कमी है।