हितों का टकराव एक गंभीर मामला : गांगुली


मुंबई 16 अक्तूबर (वार्ता) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के निर्विरोध रूप से अध्यक्ष बनने जा रहे सौरभ गांगुली ने हितों के टकराव को भारतीय क्रिकेट में एक गंभीर मामला बताया है। खुद भी हितों के टकराव के मुद्दे का शिकार हो चुके और इस मामले के चलते बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति से इस्तीफा देने वाले पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने इस मुद्दे पर पहली बार सार्वजनिक रूप  से यह बात कही। गांगुली ने कहा, ‘हितों का टकराव एक गंभीर मुद्दा है। ऐसी स्थिति में हम बीसीसीआई में सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों को कैसे शामिल कर पाएंगे क्योंकि इन क्रिकेटरों के पास अन्य बेहतर विकल्प भी मौजूद हैं। यदि वे बीसीसीआई से जुड़ते हैं और अपनी आजीविका चलाने के लिए जो करना होता है वह न कर पाएं, तो उनके लिए इस व्यवस्था से जुड़े रहना काफी मुश्किल होगा।’ टीम इंडिया के कोच के रूप में रवि शास्त्री का चयन करने वाली क्रिकेट सलाहकार समिति के तीन सदस्यों कपिल देव, अंशुमन गायकवाड और शांता रंगास्वामी ने हितों के टकराव के आरोपों के बाद इस समिति से हाल में इस्तीफा दे दिया था।