कनाडा में पंजाबियों द्वारा शरण मांगना जारी


टोरांटो, 16 नवम्बर (सतपाल सिंह जौहल): कनाडा में दुनिया के बहुत से देशों के लोग पहुंच कर शरण के लिए आवेदन सारा वर्ष देते रहते हैं। उनमें भारत के विभिन्न राज्यों के लोग भी शामिल होते हैं। गत कुछ माह से पंजाबी व गुजराती कनाडा में लगातार से शरणार्थी बन रहे हैं। नौजवान लड़के व लड़कियों के साथ ही अधेड़ आयु के जोड़े भी शरण मांगने के रुझान में शामिल हैं। 2019 में 31 अक्तूबर तक कनाडा भर में 23660 व्यक्ति शरण अप्लाई कर चुके हैं। विदेशों से सीधे कैनेडियन हवाई अड्डे में पहुंच कर 6535 व्यक्तियों द्वारा शरण के लिए अप्लाई किया जा चुका है जिनमें सबसे अधिक (3170) केस क्यूबक में मांटरीयल में अप्लाई किए गए। दूसरे नंबर पर उंटारियो प्रांत में टोरांटो का अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जहां इस वर्ष के पहले दस माह में 2985 लोगों ने शरण के केस अप्लाई किए हैं। इसी समय दौरान ब्रिटिश कोलम्बिया में 220 व अलबर्टा में 130 केस सामने आए हैं। कमाल की बात यह भी है कि अमरीका से कनाडा की सीमा पर पैदल पहुंच कर इस वर्ष दौरान अक्तूबर के अंत तक 17105 व्यक्तियों ने अपने देशों में अपनी जानों को खतरा बताकर सदा के लिए कनाडा में रहने की शरण मांगी है। हर वर्ष 1400 से 6000 तक भारतीय नागरिक कनाडा में शरण अप्लाई करते हैं जिनमें इस समय काफी संख्या पंजाबियों की भी है। पिछले दस दिनों में ही कनाडा प्रमुख हवाई अड्डों में दो दर्जन के लगभग पंजाबी व्यक्ति, महिलाएं, लड़के व लड़कियां ठहराव पक्का करने के लिए शरण मांगने की खबरें मिल रही हैं।