श्रद्धालुओं की संख्या में हो रही वृद्धि


बटाला, 18 नवम्बर (काहलों) : ज्यों-ज्यों श्री करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन और अन्य समस्याओं से निकलने के लिए जानकारी मिलती जा रही है, त्यों-त्यों ही श्री करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में वृद्धि हो रही है। श्री करतारपुर साहिब जाने के लिए सीमा के द्वार 9 नवम्बर को दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने खोले थे और 9 नवम्बर को ही भारत से खास शख्सियतें और उनके परिवारों का जत्था, जिनमें लगभग 562 व्यक्ति थे, वो गुरुद्वारा साहिब के दर्शन और पाकिस्तान सरकार द्वारा श्री करतारपुर साहिब में रखे समारोह का हिस्सा बनने गए थे। उसके बाद 10 नवम्बर को 229, 11 नवम्बर को 122, 13 नवम्बर को 279, 14 नवम्बर को 241, 15 नवम्बर को 161, 16 नवम्बर को 402 और 17 नवम्बर रविवार को 547 श्रद्धालु अब तक गुरुद्वारा साहिब में माथा टेक चुके हैं। यह भी वर्णननीय है कि नवम्बर 21 और 24 को सरकार के आंकड़ों मुताबिक 2-2 हजार से अधिक श्रद्धालु श्री करतारपुर साहिब की यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं और गुरुद्वारा साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती जा रही है। यह भी बता दें कि गुरुद्वारा साहिब जाने के लिए भारतीय श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन की एक कठिन प्रक्रिया से गुजरना पड़ रहा है, जिसके लिए सिख भाईचारे द्वारा सोशल मीडिया और अन्य साधनों से रजिस्ट्रेशन करवाने की प्रक्रिया से लगातार अवगत करवाया जा रहा है। धीरे-धीरे श्रद्धालुओं के मनों के संदेह भी दूर हो  रहे हैं। लोगों के मनों में यह भ्रम था कि अगर पाकिस्तान की पासपोर्ट पर मुहर लगाए जाए तो शायद किसी अन्य देश जाने की समस्या हो जाती है, परंतु पासपोर्ट पर मुहर न लगने पर भी श्रद्धालुओं के मनों में बसा यह डर दूर हो गया है।