चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों के लिए सर्वोत्तम यूनिवर्सिटी : डा. बावा


जालन्धर, 21 अप्रैल (रणजीत सिंह सोढी): चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के उप कुलपति डा. आर.एस. बावा ने प्रैस क्लब जालन्धर में पत्रकारवार्ता के दौरान जानकारी देते हुए बताया कि चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों के सर्वपक्षीय विकास के लिए उत्तर भारत की सर्वोत्तम यूनिवर्सिटी है, जिसमें भारत के अलावा 38 देशों के 29 राज्यों व 6 यूनियन टैराटरी के 26 हज़ार के करीब विद्यार्थी शिक्षा हासिल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अकादमिक वर्ष 2018-19 के दौरान यूनिवर्सिटी से डिग्रीयां हासिल करने वाले अकेले पंजाब के विद्यार्थियों में से 1860 विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय कम्पनियों में नौकरियां प्राप्त की हैं। उन्होंने कहा कि सी.यू. 2019 के तहत यूनिवर्सिटी में 100 से अधिक चलाए जा रहे विभिन्न कोर्सों में दाखिला लेने वाले होनहार 800 विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति प्राप्त करने के लिए मई माह के हर शनिवार व रविवार को प्रदेशभर में स्थापित विभिन्न परीक्षा केन्द्रों में आनलाइन परीक्षा ली जाएगी, जिसके लिए अधिक जानकारी के लिए यूनिवर्सिटी की साइट व वैबसाइट देखी जाए। उन्होंने कहा कि सत्र 2019-20 से पंजाब के अध्यापकों के बच्चों के लिए 50 लाख रुपए के वार्षिक छात्रवृत्ति व विभिन्न विभागों की सीटों में 5 फीसदी सीटें आरक्षित होंगी। डा. बावा ने कहा कि विद्यार्थियों की उच्च व स्तरीय शिक्षा व विद्यार्थियों को समय के सार्थी बनाने के लिए 220 विदेशी यूनिवर्सिटियाें से करार हैं। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी द्वारा विद्यार्थियों के हक में सबसे बड़ा फैसला यह है कि जो फीस कोर्स में दाखिल होते समय निर्धारित की जाती है कोर्स खत्म होने तक उसी फीस में ही शिक्षा प्रदान की जाती है, बाकी निजी यूनिवर्सिटीयों की तरह हर वर्ष फीस नहीं बढ़ाई जाती। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी द्वारा आर्म्ड फोर्सिस एजुकेशनल वैल्फेयर स्कीम के ज़रिये 5 फीसदी आरक्षण दिया जाता है। देश की सेवा करते समय घायल हुए या शारीरिक तौर पर असमर्थ हुए सैनिकों के बच्चों को 15 फीसदी व नौकरी कर रहे जवानों के बच्चों को 10 फीसदी तक की फीस कटौती दी जाती है।