चुनावों में 6 पार्टी अध्यक्षों का वर्चस्व दांव पर


चंडीगढ़, 24 अप्रैल (विक्रमजीत सिंह मान) : पंजाब में लोकसभा चुनावों को लेकर सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस सहित अकाली-भाजपा और ‘आप’ मुख्य रूप से चुनाव मुकाबले में बताए जा रहे हैं, परन्तु इन चुनावों में 6 पार्टी अध्यक्षों का वर्चस्व भी दांव पर लगा हुआ है। गुरदासपुर से भाजपा द्वारा सीट से बालीवुड अभिनेता सन्नी द्योल को मैदान में उतारने से सुनील जाखड़ के लिए जीत की राह चुनौतीपूर्ण हो गई है। इसी तरह शिरोमणि अकाली दल ने अपने अध्यक्ष स. सुखबीर सिंह बादल को फिरोज़पुर से अपना उम्मीदवार घोषित किया है और पंजाब एकता पार्टी के अध्यक्ष स. सुखपाल सिंह खैहरा भी लोकसभा चुनावों में अपनी किस्मत अज़माते हुए बठिंडा से चुनाव लड़ रहे हैं, यहां अकाली दल ने हरसिमरत कौर बादल को चुनाव मैदान में उतार है। इसके साथ ही आम आदमी पार्टी के पंजाब अध्यक्ष भगवंत मान संगरूर से और नवां पंजाब पार्टी के अध्यक्ष धर्मवीर गांधी पटियाला से चुनाव मैदान में हैं। डा. धर्मवीर गांधी पटियाला में एक बार फिर कांग्रेस की उम्मीदवार और मुख्यमंत्री कै. अमरेन्द्र सिंह की पत्नी परनीत कौर को चुनौती दे रहे हैं। अकाली दल ने यहां पूर्व मंत्री स. सुरजीत सिंह रखड़ा और आम आदमी पार्टी ने नीना मित्तल को मुकाबले में उतारा हुआ है। दूसरी तरफ फिरोज़पुर सीट अकाली दल की सबसे सुरक्षित सीट रही है और अकाली दल में रहते हुए शेर सिंह घुबाया जो इस सीट से अब कांग्रेस के उम्मीदवार हैं लगातार दो बार जीत चुके हैं। इसके साथ ही लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष विधायक स. सिमरजीत सिंह बैंस भी लोकसभा हलका लुधियाना से चुनाव लड़ रहे हैं। यहां कांग्रेस द्वारा रवनीत सिंह बिट्टू और अकाली दल द्वारा पूर्व मंत्री महेशइंद्र सिंह ग्रेवाल को चुनाव मैदान में उतारा गया है। इन सीटों पर चुनाव नतीजे जो भी हो परन्तु मुकाबला बड़ा दिलचस्प दिखाई दे रहा है और यह चुनाव कई राजनीतिक नेताओं का राजनीतिक भविष्य भी तय करेगा।