पटना साहिब के हटाए जत्थेदार को बहाल करने के लिए आर.एस.एस. द्वारा भारी दबाव


जालन्धर, 17 जुलाई (मेजर सिंह): तख्त श्री पटना साहिब के हटाए जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह को पता चला है कि पुन: बहाल करने के लिए आर.एस.एस. द्वारा गुरुद्वारा प्रबंधक बोर्ड पर भारी दबाव डाला जा रहा है। इस वर्ष के शुरू में तख्त श्री पटना साहिब के जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह के विरुद्ध श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को बहुत सी धार्मिक व सामाजिक कुरीतियों में ग्रस्त होने की शिकायतें मिली थीं। श्री अकाल तख्त साहिब के कार्यकारी जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने इन शिकायतों का नोटिस लेते हुए जांच कमेटी गठित की थी। इस कमेटी की जांच आरंभ करने से पहले ही ज्ञानी इकबाल सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।  जब जांच कमेटी ने यह जानकारी दी तो श्री अकाल तख्त साहिब के कार्यकारी जत्थेदार ने तख्त श्री पटना साहिब के प्रबंधकीय बोर्ड के संविधान की धारा 79 में मिले अधिकारों का प्रयोग करते हुए इस्तीफा स्वीकृत करने का निर्देश दिया था। प्राप्त जानकारी के अनुसार पटना साहिब के प्रबंधकीय बोर्ड ने 10 मई की बैठक में उपस्थित 13 सदस्यों में से 11 सदस्यों की सहमति से ज्ञानी इकबाल सिंह का इस्तीफा स्वीकृत कर स. राजिन्द्र सिंह को कार्यकारी जत्थेदार की ज़िम्मेवारी सौंप दी। विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार अब आर.एस.एस. द्वारा ज्ञानी इकबाल सिंह को पुन: जत्थेदार नियुक्त किए जाने के लिए बोर्ड प्रबंधकों पर दबाव डाला जा रहा है। बताया जाता है कि इस मामले में पैरवी करने के लिए निर्मले संत के भेख वाला आर.एस.एस. का एक सीनियर कार्यकर्ता पटना साहिब बैठ कर जोड़-तोड़ करने में सक्रिय है। पता चला है कि पटना साहिब प्रबंधकीय बोर्ड के एक-दो पदाधिकारी व अकाली दल के कुछ नेता भी आर.एस.एस. के प्रयासों में साथ दे रहे बताए जाते हैं। स. अवतार सिंह हित इस समय पटना साहिब तख्त के प्रबंधकीय बोर्ड के प्रधान  हैं। प्रबंधकीय बोर्ड के बड़ी संख्या में सदस्य नए जत्थेदार की नियुक्ति के लिए किसी पंथक शख्सियत की तलाश में हैं।