'विक्रम' लैंडर से संपर्क करने के लिए नासा की मदद ले सकता है इसरो 


नई दिल्ली,10 सितंबर - भारत के महत्वाकांक्षी 'मिशन चंद्रयान-2' को लेकर अभी सबकुछ खत्म नहीं हुआ है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) चंद्रयान-2 के लैंडर 'विक्रम' से संपर्क करने की कोशिशें जारी हैं। इसरो के मुताबिक, लैंडर 'विक्रम' की चांद की सतह पर तिरछी हार्ड लैंडिंग हुई। इसके बाद भी वो सही-सलामत है। इसरो के पास विक्रम से दोबारा कनेक्शन बनाने के लिए बस 11 दिन बचे हैं। ऐसे में इसरो लैंडर विक्रम से संपर्क करने के लिए अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा की मदद लेने पर भी विचार कर रहा है, क्योंकि नासा का एक मिशन 'लूनर रीकॉनिसेंस ऑर्बिटर चंद्रयान-2 के मुकाबले चांद के ज्यादा करीब चक्कर लगा रहा है। इससे बेहतर डेटा मिल सकता है।