पंजाब में धान की रोपाई पहले करने से वायु गुणवत्ता सुधारने में मदद मिलेगी : एनजीटी


नई दिल्ली, 8 नवम्बर (भाषा): राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने पंजाब में धान की रोपाई एक सप्ताह पहले करने की राज्य सरकार की अधिसूचना को चुनौती देने वाली याचिका पर आदेश देने से इनकार कर दिया और कहा कि इससे अगली फसल के लिए ज्यादा समय मिलेगा तथा वायु की गुणवत्ता में सुधार होगा। एनजीटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की पीठ ने कहा कि यह तथ्य है कि तारीख पहले करने से अगली फसल के लिए और समय मिलेगा तथा वायु गुणवत्ता में सुधार होगा। उपरोक्त के मद्देनजर हम आगे कोई आदेश जारी करने का कोई आधार नहीं देखते। हालांकि एक समिति की रिपोर्ट में कहा गया है कि रोपाई की तारीख बदलकर 20 जून करने से भूजल बचाने में मदद मिलेगी और पराली जलाने से होने वाला वायु प्रदूषण रुकेगा।  एनजीटी द्वारा गठित समिति में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रतिनिधि तथा पंजाब कृषि विश्वविद्यालय एवं हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के एक-एक वैज्ञानिक शामिल हैं। समिति ने कहा कि धान की अल्पकालिक किस्मों की उपलब्धता से पानी की बचत होती है।