राजोआणा का मामला पंजाब सरकार से नहीं, यू.टी. प्रशासन से संबंधित : जेल मंत्री


चंडीगढ़, 12 नवम्बर (विक्रमजीत सिंह मान): केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा स्व. मुख्यमंत्री बेअंत सिंह कत्ल मामले में सज़ा काट रहे बलवंत सिंह राजोआणा की फांसी की सज़ा उम्र कैद में तबदील किए जाने के बाद इस संबंधी फाइल पंजाब सरकार को भेजे जाने संबंधी बातचीत करते हुए राज्य के जेल मंत्री स. सुखजिन्द्र सिंह रंधावा ने कहा कि यह मामला पंजाब सरकार से नहीं, बल्कि चंडीगढ़ यू.टी. प्रशासन से संबंधित है तथा इस मामले में आगामी कार्रवाई यू.टी. प्रशासन ने ही करनी है। उन्होंने इस संबंधी किसी किस्म की फाइल मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचने की सूचना से इन्कार करते हुए कहा कि राजोआणा केवल हमारी कस्टडी में है जबकि इस मामले में आगामी सारी कार्रवाई चंडीगढ़ प्रशासन कर उसकी सूचना केवल पंजाब सरकार को देगी। 
उन्होंने कहा कि हम तो राजोआणा को पैरोल भी नहीं दे सकते। उन्होंने बातचीत करते हुए कहा कि केन्द्र ने पंजाब सरकार से राजोआणा बारे जो जानकारी मांगी थी वह दे दी गई थी जिसके बाद राजोआणा की फांसी की सज़ा उम्र कैद में तबदील करने का फैसला केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा लिया गया है। 
एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि इस बात की जानकारी उनको भी नहीं है कि राजोआणा को मौत तक उम्र कैद में रखा जाएगा या फिर काट ली गई सज़ा के आधार पर रिहा करने का फैसला लिया जाएगा। दूसरी ओर चंडीगढ़ प्रशासन को इस संबंधी केन्द्र सरकार से पत्र मिलने की जानकारी प्राप्त हुई है। 
यू.टी. प्रशासन के गृह सचिव अरुण कुमार ने बातचीत करते हुए बताया कि चंडीगढ़ प्रशासन को इस संबंधी पत्र मिल गया है तथा इस पर आगामी कार्रवाई विचार चर्चा करने के बाद की जाएगी।