विश्व को गुरु नानक देव के दर्शाए मार्ग पर चलने की ज़रूरत : ज्ञानी हरप्रीत सिंह


-अमरजीत कोमल/बलविंदर लाडी/मनोज शर्मा-
सुल्तानपुर लोधी, 12 नवम्बर : शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से श्री अकाल तख्त साहिब की संरक्षण में गुरु नानक स्टेडियम में करवाए गए मुख्य समारोह दौरान श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कौम के नाम दिए संदेश में श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के मुबारक मौके श्री करतारपुर साहिब का गलियारा खुलने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले 550 वर्षों दौरान सिख पंथ के ऐतिहासिक सफर और मौजूदा दशा के मद्देनजर भविष्य की संभावनाओं को तलाशने की ज़रूरत है। उन्होंने अपने संदेश में सिख पंथ के आधुनिक स्थिति और विश्व सरोकारों व विश्व के प्रसंग में सिख फलसफे की अहमियत को उभारा। उन्हाेंने कहा कि सिख कौम को अपने भविष्य बारे शिक्षा लेने के लिए पर्व को प्रेरणा के रूप में लेना चाहिए। सिंह साहिब ने संसार की आधुनिक स्थिति की बात करते हुए कहा कि आज मनुष्य जीवन में विकास के स्थान पर विनाश की ओर जा रहा है, परिणामस्वरुप प्रकृति का बिगड़ता संतुलन, हौमेवादी निजाम, व्यापारिक जंग, पदार्थ वादरा, सभ्याचारों का दमन, विश्व आर्थिक मंदी और परमाणु जंग जैसे हालात मानवता को दरपेश हैं। उन्होंने कहा कि केवल सिख कौम को ही नहीं, बल्कि समूचे संसार को श्री गुरु नानक देव जी के दर्शाए मार्ग चलने की जरुरत है।
-शिरोमणि कमेटी के समारोह में बड़ी संख्या में संत-महापुरुष हुए शामिल : इस दौरान तख्त श्री केसगढ़ साहिब के जत्थेदार ज्ञानी रघबीर सिंह, दमदमी टकसाल के प्रमुख बाबा हरनाम सिंह खालसा, शिरोमणि बुड्ढा दल के प्रमुख बाबा बलबीर सिंह, बाबा निहाल सिंह हरियां वेलां वाले, बाबा सेवा सिंह खडूर साहिब वाले, भाई बलजिंदर सिंह राड़ा साहिब वाले, महंत रघु मुनि उदासीन सहित अन्य कई संत-महापुरुषों ने श्री गुरु नानक देव जी के जीवन और शिक्षाओं बारे अपने विचार पेश किए। समारोह दौरान शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से धार्मिक शख्सियतों को सम्मानित भी किया गया। इससे पूर्व सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब के हजूरी रागी भाई सतिंदरबीर सिंह और भाई राय सिंह के कीर्तनी जत्थाें ने गुरुबाणी कीर्तन द्वारा श्रद्धालुओं को निहाल किया और पंथ प्रसिद्ध कथावाचक भाई पिंदरपाल सिंह ने श्रद्धालुओं के साथ गुरमति विचारों की साझ डाली।