कैप्टन द्वारा मृतकों के वारिसों व घायलों को 2.90 करोड़ की वित्तीय सहायता


चंडीगढ़, 27 अगस्त (वार्ता) : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज बहबल कलां गोली कांड के मृतकों के वारिसों और घायलों के लिए घोषित 2.90 करोड़ रुपए की अतिरिक्त वित्तीय सहायता के चेक सौंपे। मुख्यमंत्री ने जस्टिस रणजीत सिंह आयोग की तरफ से मृतकों के परिजनों को 75 लाख रुपए और नौकरी देने की सिफारिश से आगे बढ़ते हुए वित्तीय सहायता एक करोड़ रुपए कर दी थी। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पीड़ित परिवारों को चेक सुपुर्द करते समय पर हर संभव मदद का भरोसा दिया। उन्होंने हालांकि स्वीकार किया कि किसी भी तरह की वित्तीय सहायता दिवंगतों की कमी पूरा नहीं कर सकती। एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि कि सरकार ने बहबल कलां गोलीकांड के मृतक गुरजीत सिंह, गांव सरावां और कृष्ण भगवान सिंह, गांव बहबल खुर्द के परिवारों के लिए पहले जारी वित्तीय सहायता में 90 -90 लाख रुपए की बढ़ोतरी की थी। शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी सरकार, जिसके शासन के दौरान यह घटना घटी थी, ने मृतकों के परिवारों को सिर्फ दस-दस लाख रुपए का मुआवजा दिया था। बठिंडा के गांव नाथपुरा के अजीत सिंह, जो उस समय गंभीर घायल हुआ था, को वित्तीय सहायता के तौर पर 60 लाख रुपए का चेक प्रदान किया। इसके साथ ही सरकार ने उसके इलाज पर हुआ मुकम्मल खर्च भी अदा करने का ऐलान करते हुए उसकी देखभाल के लिए 15,000 रुपए प्रति महीना पर देखभाल करने वाले व्यक्ति को मुहैया करवाने का ऐलान किया। इसी तरह बहबल खुर्द गांव के बेअंत सिंह जोकि घटना के दौरान घायल हुआ था, को मुख्यमंत्री ने 50 लाख रुपए की वित्तीय सहायता का चेक सौंपा। सरकार उसके इलाज पर खर्च हुए 2.60 लाख रुपए की अदायगी भी कर चुकी है।