करतारपुर साहिब : रजिस्ट्रेशन फार्म व पासपोर्ट का झंझट बरकरार


बटाला, 22 नवम्बर (काहलों )  : जैसे-जैसे श्रद्धालुओं में गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब को देखने के लिए उत्साह बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे ही श्रद्धालु रजिस्ट्रेशन फार्म भरने के समय पासपोर्ट की जानकारियों में उलझते जा रहे हैं।  पासपोर्ट से संबंधित एक और मामला तब सामने आया जब इटली से लौटे बलजीत सिंह और उसकी पत्नी जसविंदर कौर फार्म भरने लगे। वर्णनीय है कि कुछ समय पहले बलजीत सिंह व उसकी पत्नी इटली गए थे, वहां उनके भारतीय पासपोर्ट की अवधि पूरी हो गई। कानून मुताबिक वो भारतीय राजदूत के घर मिलान चले गए, वहां उन्होंने अपना भारतीय पासपोर्ट नया बना लिया। उनके पासपोर्ट में जारी करने का स्थान मिलान लिखा गया। जब वो रजिस्ट्रेशन फार्म श्री करतारपुर साहिब के लिए भरने लगे तो भारतीय पासपोर्ट की जानकारी के बाद जारी करने का स्थान भारतीयों के लिए भारत के ही पासपोर्ट कार्यालयों के अलावा और कोई भी देश का कॉलम नहीं है। अन्य देशों के लिए जारी करने के स्थान की सुविधा उन विदेशियों के पास ही है, जो ओ.सी.आई. कार्ड होल्डर हैं। वो भारतीय नागरिक जो विदेशों में अपने रिश्तेदारों, सगे-संबंधियों या अपने बच्चों के पास यात्री वीज़ा लेकर जाते हैं, उनकी मांग है कि सरकार रजिस्ट्रेशन फार्म में पासपोर्ट जारी करने का स्थान में अन्य देशों का कॉलम बनाए ताकि अवधि पूरी होने उपरांत विदेशों में भारतीय राजदूत घर से बने पासपोर्ट भी उचित पाए जा सकें। 
कई श्रद्धालु पुलिस जांच में उलझे व कुछ को नहीं आया एस.एम.एस.
श्रद्धालुओं के लिए गलियारा खुलने की कोई ज्यादा खुशी प्रतीत नहीं हो रही, क्योंकि उनके मनों में धारणा थी कि लांघा खुलने के बाद शायद वो छलांग लगाकर बाबा नानक के चरणों की मिट्टी ले आएंगे, परंतु ज्यों ज्यों दिन गुजरते जा रहे हैं, त्यों त्यों ही श्रद्धालु निराश होते जा रहे हैं ‘अजीत’ उप कार्यालय में पहुंचे चंचल सिंह, दविंदर  सिंह, सुखविंदर सिंह व अन्य श्रद्धालुओं ने बताया कि उनकी रजिस्ट्रेशन मुकम्मल हो चुकी है, जो आनलाइन करते समय फार्म के ऊपर लिख दी जाती है कि आपका फार्म सफलतापूर्वक भर दिया है, परंतु उन्होंने बताया कि फार्म भरने संबंधी उनको कोई एस.एम.एस. नहीं आया और न ही पुलिस जांच करने पहुंची है। उन्होंने यह भी बताया कि उनकी जाने  की निर्धारित तिथि बिलकुल निकट है।