पाठ्यक्रम से पंजाबी भाषा को खत्म करने का शिक्षा विभाग का फरमान : सीपीआई (एमएल) ने विद्यार्थियों पर थोपे जा रहे हिंदी और इंग्लिश मीडियम का किया विरोध 


चंडीगढ़, 19 अप्रैल (पठानिया): सीपीआई (एमएल) रेड स्टार ने शिक्षा विभाग के उन आदेशों की कड़े शब्दों में निंदा की है, जिसमें आदेश जारी किए गए है कि स्कूलों में हिंदी और इंग्लिश मीडियम ही थोपे जा रहे है। इससे विद्यार्थी अपना मनपसंद मीडियम नही चुन सकते। चंडीगढ़ से सीपीआई (एमएल) रेड स्टार के उम्मीदवार कॉमरेड लश्कर सिंह ने चंडीगढ़ एजुकेशन डिपार्टमैंट को सख्त लहजे में चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर विभाग ने जल्द ही ये आदेश वापस न लिए तो वो बच्चों के पेरेंट्स के साथ एजुकेशन डिपार्टमैंट ऑफिस का घेराव करेंगे। कॉमरेड लश्कर सिंह ने कहा कि बच्चों पर जबरन ही हिंदी और इंग्लिश मीडियम थोपे जा रहे है। शिक्षा विभाग के इन आदेशों को कतई भी बर्दाश्त नही किया जाएगा और न ही आदेशों को लागू होने दिया जाएगा। हिंदी और इंग्लिश हमारी भाषा नही है, बल्कि यह एक संपर्क योग्य भाषा मात्र है।  पंजाबी हमारी मातृभाषा है। इसकी हत्या नही होने दी जाएगी। चंडीगढ़ में इस प्रकार से अफसरशाही की मनमानी नही चलने दी जाएगी। पंजाबी को सैकेंड या तीसरी भाषा नही बनने देंगे। हम इसकी कड़ी निंदा करते है। हमारी मांग है कि एजुकेशन विभाग अपने आदेश तुरंत वापस ले अन्यथा सीपीआई ( एमएल) रेड स्टार पुरजोर आंदोलन करेगी। जिसकी जिम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ शिक्षा विभाग की होगी।