अनंतनाग में शहीद हुए अनिल जसवाल का सरकारी सम्मान के साथ अंतिम संस्कार 


ऊना,19 जून - (हरपाल सिंह कोटला) - कश्मीर घाटी के अनंतनाग में बीते सोमवार-मंगलवार की रात को एक मुठभेड़ में शहीद हुए ऊना के सपूत अनिल जसवाल के पार्थिव शरीर का बुधवार को सरकारी सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शहीद के पांच महीने के बेटे वरुण ने शहीद के चचेरे भाई और अपने चाचा सन्दीप जसवाल की गोद में चढ़कर पिता के पार्थिव शरीर को मुख्याग्नि भेंट की। यह मंजर देखकर हर कोई बिलख उठा। मासूम ने जन्म के बाद पिता की गोद में कुछ घंटों का ही वक्त गुजारा होगा। उसे क्या पता कि उसके जन्म लेने के कुछ महीने बाद ही पिता देश पर कुर्बान होकर सुनहरी अक्षरों में अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा लेगा। दोपहर के बाद जब शहीद का पार्थिव शरीर घर पहुंचा, तो चीख-पुकार के साथ पूरा गांव गूंज उठा। भारत मां की सेवा में परिवार की तीसरी पीढ़ी के मैंबर शहीद अनिल जसवाल ने देश सेवा का बीड़ा उठाया था। शहीद अनिल ने कश्मीर घाटी के अनंतनाग में आतंकवादियों के खिलाफ उस ऑपरेशन में शहीद हुए, जिसमें मेरठ के मेजर केतन शर्मा ने भी शहादत को चूमा था।