कोटकपूरा गोलीकांड संबंधी सुनवाई एक नवम्बर तक स्थगित 


फरीदकोट, 18 अक्तूबर (जसवंत सिंह पुरबा) : चार साल पहले कोटकपूरा के मुख्य चौक में सिख संगत पर हुए पुलिस लाठीचार्ज व गोलीकांड सबंधी सिटी थाना कोटकपूरा में दर्ज हुए मामले की यहां सैशन जज हरपाल सिंह की अदालत में चल रही सुनवाई दौरान पंजाब सरकार द्वारा लिखती तौर पर दावा किया गया कि कोटकपूरा गोलीकांड के आरोपी पुलिस अधिकारी जांच टीम के अधिकारियों को दबाना चाहते हैं और बिना वजह जांच अधिकारियों के मोबाइल फोन की काल डिटेल मांगी है। सैशन जज हरपाल सिंह  की अदालत में आज सुनवाई के दौरान आई.जी. परमराज सिंह उमरानंगल, पूर्व एस.एस.पी. चरणजीत शर्मा व इस मामले में नामज़द अन्य पुलिस अधिकारी भी उपस्थित थे। बता दें कि परमराज सिंह उमरानंगल द्वारा पिछली सुनवाई के दौरान दरखास्त दी गई थी व जांच टीम से सबंधित आठ पुलिस अधिकारियों द्वारा जांच प्रक्रिया दौरान प्रयोग किए गए मोबाइल फोन काल डिटेल मांगी गई थी। पंजाब सरकार द्वारा जिला अटार्नी द्वारा आज अदालत में जवाब दाखिल कर पुलिस अधिकारियों की इस याचिका को निरस्त करने की मांग की है। इसी तरह परमराज सिंह उमरानंगल द्वारा कोटकपूरा व बहबल कलां गोलीकांड के बाद दर्ज हुए मामला नंबर 192 दिनांक 14 अक्तूबर 2015 की स्टेटस रिपोर्ट मांगी गई थी। पंजाब सरकार ने इस याचिका के जवाब में कहा कि इस मुकदमे की जांच अभी चल रही है और इस सबंधी चलान या आरोप पत्र अभी तक तैयार नहीं हुए। अदालत ने इस मामले में पंजाब सरकार का उत्तर आने के बाद इस मामले की सुनवाई 1 नवंबर तक स्थगित कर दी।