पंजाब में श्रमिकों के वेतन में 325 रुपए प्रतिमाह की बढ़ौत्तरी


लुधियाना, 1 नवम्बर (पुनीत बावा) : पंजाब सरकार के श्रम विभाग द्वारा पंजाब के में काम करने वाले व्यक्तियों की कम से कम वेतन में बढ़ौत्तरी की गई है। सरकार द्वारा 325 रुपए प्रति महीना तक बढ़ौत्तरी की गई है जिस में जहां व्यक्तियों की जेबों में करोड़ों रुपए ज्यादा आएंगे, वहीं उद्योगपतियों व कारोबारियों पर करोड़ों रुपए का ज्यादा बोझ पड़ेगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार श्रम विभाग द्वारा अर्द्ध कुशल श्रमिकों का वेतन 8452 से 8777 रुपए, अर्द्ध कुशल श्रमिकों का वेतन 9232 से 9557 रुपए, कुशल श्रमिकों का वेतन 10129 से 10454 रुपए व उच्च कुशल श्रमिकों का वेतन 11161 से 11486 रुपए प्रति महीना कर दी गई है। जबकि राजस्थान में अकुशल श्रमिकों का वेतन 5850 रुपए, अर्द्ध कुशल श्रमिकों का वेतन 6162 रुपए, कुशल श्रमिकों   का वेतन 6474 रुपए व उच्च कुशल श्रमिकों का वेतन 7774 रुपए, गुजरात में अकुशल श्रमिकों का वेतन 8070 रुपए, अर्द्ध कुशल श्रमिकों का वेतन 8278 रुपए, कुशल श्रमिकों का वेतन 8486 रुपए व उच्च कुशल श्रमिकों का वेतन 11700 रुपए, हिमाचल प्रदेश में अकुशल श्रमिकों का वेतन 7500 रुपए, अर्द्ध कुशल श्रमिकों का वेतन 7754 रुपए, कुशल श्रमिकों का वेतन 8825 रुपए व उच्च कुशल श्रमिकों की वेतन 10635 रुपए कम से कम वेतन है। शीशू के प्रधान उपकार सिंह आहुजा व जनरल सचिव पंकज शर्मा ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा जो की गई कम से कम वेतन में वृद्धि की गई है, वह उद्योगपतियों के साथ धक्केशाही है। उन्होंने कहा कि उद्योगपति पहले ही आर्थिक तंगी व मंदी के दौर से गुजर रहे है व ऐसे समय में श्रमिकों के वेतन में वृद्धि करना किसी भी पक्ष से सही नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने कम से कम वेतन में की गई वृद्धि वापस न ली तो उद्योगपतियों को अपनी उद्योगिक इकाईयों में श्रमिकों को निकालना पड़ेगा। जिससे बेरोज़गारी में वृद्धि होगी।