चन्द्रयान-2 मिशन को विफल कहना न्यायोचित नहीं : सरकार


नई दिल्ली,  21 नवम्बर (वार्ता) : सरकार ने आज राज्यसभा में कहा कि चन्द्रयान 2 मिशन को विफल कहना न्यायोचित नहीं होगा। प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह ने गुरुवार को एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि दुनिया का कोई भी देश दो प्रयास के बाद ही चन्द्रमा की सतह पर उतरने में कामयाब हुआ है। अमेरिका भी आठवीं बार चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग कर पाया था। बिना प्रमाण के इस मिशन को विफल नहीं कहा जा सकता। उन्होंने कहा कि चन्द्रयान का प्रक्षेपण, लैंडर का अलग होना, ऊंचाई बढ़ाने और ब्रेकिंग प्रणाली आदि सफल रही। इसके आठ वैज्ञानिक उपकरण अपने डिजाइन के अनुसार काम कर रहे हैं और आंकड़े भी भेज रहे हैं। सटीक प्रक्षेपण और कुछ अन्य कारणों से आर्बिटर की मिशन अवधि बढ़ाकर सात साल कर दी गई है। चन्द्रमा पर उतरने के दूसरे चरण के दौरान उसकी गति अनुमानित गति से अधिक थी । जिसके कारण चन्द्रयान निर्धारित स्थल से 500 मीटर की सीमा में विक्रम का हार्ड लैंडिंग हुआ।