‘आप’ विधायक व भाजपा के पूर्व विधायक की अकाली टिकट पर नज़र


जालन्धर, 19 जनवरी (मेजर सिंह): विधानसभा दिल्ली के 8 फरवरी को होने जा रहे चुनावाें के लिए हरी नगर क्षेत्र से अकाली दल की टिकट पर ‘आप’ विधायक व भाजपा के पूर्व विधायक की नज़र टिकी हुई है। ‘आप’ द्वारा उम्मीदवर न बनाए जाने के कारण हरी नगर से पार्टी विधायक जगदीप सिंह अकाली लीडरशिप के सम्पर्क में बताए जाते हैं और वह दल में शामिल होकर पुन: चुनाव लड़ने के इच्छुक बताए जाते हैं। इस तरह हरी नगर से भाजपा के उम्मीदवार के रूप में चार बार विधायक रहे हरशरण सिंह बल्ली भी अकाली दल में शामिल होकर हरी नगर से चुनाव लड़ने के लिए सक्रिय बताए जा रहे हैं। अकाली लीडरशिप ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है। पता चला है कि घनी सिख आबादी वाले क्षेत्र हरी नगर से बुजुर्ग अकाली नेता ओंकार सिंह थापर के बेटे सोनू व अमरजीत सिंह पप्पू पार्षद भी उम्मीदवार बनने के इच्छुक हैं। पता चला है कि हरी नगर की उम्मीदवारी को लेकर अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने भाजपा व केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ भी मुलाकात की। अकाली दल दिल्ली विधानसभा में चार सीटों से अपने उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारने जा रहा है। इनमें राजौरी गार्डन, कालका जी, शाहदरा व हरी नगर शामिल हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के अनुसार पार्टी अध्यक्ष के साथ बैठक में आज राजौरी गार्डन से मनजिंदर सिंह सिरसा, कालका जी से हरमीत सिंह कालका व शाहदरा से पूर्व विधायक जितेन्द्र सिंह शंटी के नाम तय कर दिए गए हैं परंतु हरी नगर से फैसला होना अभी बाकी है। हरमीत सिंह कालका इस समय अकाली दल (दिल्ली) के अध्यक्ष हैं।
तकड़ी (तराजू) चिन्ह पर चुनाव लड़ेंगे अकाली 
दिल्ली विधानसभा चुनाव इस बार सभी अकाली उम्मीदवार तकड़ी (तराजू)चिन्ह पर ही लड़ेंगे। अकाली लीडरशिप के नज़दीकी सूत्रों का कहना है कि भाजपा ने कभी भी कमल के फूल पर अकाली उम्मीदवारों को चुनाव लड़ाए जाने की शर्त नहीं रखी, बल्कि खुद ही कुछ अकाली उम्मीदवार भाजपा के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ने को प्राथमिकता देते हैं। सूत्रों का कहना है कि पिछले उप चुनाव में मनजिंदर सिंह सिरसा ने अपने तौर पर ही भाजपा का चिन्ह अलाट करवा लिया था, जिस कारण उन्हें पार्टी लीडरशिप की कड़ी नाराज़गी का सामना करना पड़ा।