बिजली कट लगने से जरनेटरों व इनवर्टरों की बिक्री बढ़ी


लुधियाना, 10 जून (अ.स.):  पंजाब में पिछले 15 दिनों से बिजली के अघोषित कट लगने शुरू हो गए हैं, जिस कारण पंजाब में जरनेटरों व इनवर्टरों की बिक्री गत वर्षों के मुकाबले 30 से 40 फीसदी बढ़ गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गर्मी बढ़ने से बिजली की मांग में भी भारी वृद्धि हो गई है परंतु गर्मी के बढ़ने के साथ-साथ बिजली के कट भी बढ़ गए हैं। पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार के 2012 से 2017 तक के कार्यकाल के अंतिम दो वर्ष बिजली कट नाममात्र ही लगते थे, जिस कारण प्रदेश में जरनेटर व इनवर्टर बनाने वाली कम्पनियों का काम बेहद घटा दिया था। प्रदेश के जरनेटर बनाने वाले उद्योगपतियों या अन्य कम्पनियों के जरनेटर मंगवाने वाले ट्रेडर की जरनेटरों की मांग कम होने के कारण आर्थिक मंदहाली में से गुजर रहे थे परंतु गठबंधन सरकार समय इनवर्टरों के काम पर बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा था, क्योंकि हर घर में बिजली के कट से बचने के लिए इनवर्टर ज़रूर लगाया जाता है। कांग्रेस की सरकार का कार्यकाल 2017 से आरम्भ हुआ पहले वर्ष की गर्मी में चाहे ज्यादा बिजली कट नहीं लगे परंतु अब जब गर्मी पड़नी शुरू हो गई है तो बिजली के कटों में भी वृद्धि हो गई है। बिजली कटों के कारण जरनेटर बनाने वाले व अन्य कम्पनियों के जरनेटर मंगवाने वाले ट्रेडरों के चेहरों पर रौणक आ गई है। और तो और जिन लोगों ने अपनी जरनेटर न चलने के कारण कभी मुरम्मत या सफाई नहीं करवाई थी, वह भी कारीगरों को बुलाकर अपने जरनेटरों की मुरम्मत करवा रहे हैं। दूसरी ओर इनवर्टर बनाने वाले व बेचने वालों के काम भी पिछली गर्मियों से 30 से 40 फीसदी तक बढ़ गया है। पुराने इनवर्टरों की बैटरियां बदलने का भी रुझान दिन-रात तेज़ होता जा रहा है। बिजली कट लगने के बाद लोगों को दुखी होकर जरनेटर या इनवर्टर लेने पड़ रहे हैं, जिससे उन पर करोड़ों रुपए का अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ गया है। एक तरफ कारोबार दिन प्रतिदिन कम होते जा रहे हैं और दूसरी ओर गर्मी से बचने के लिए नया खर्च करना पड़ रहा है। जरनेटर व इनवर्टर बनाने वाले उद्योगपतियों व ट्रेज़रों  का कहना है कि यदि वह अपने काम के रूप में देखते हैं तो कांग्रेस सरकार उनके लिए अच्छी है क्योंकि बिजली कट लगने के कारण उनका काम पहले से बढ़ गया है परंतु यदि वह एक आम व्यक्ति की तरह देखते हैं, तो गर्मी होने के कारण बिजली के कटों ने लोगों का जीना दूभर कर दिया है।