सिंध में अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थानों की सुरक्षा भगवान भरोसे


अमृतसर, 20 सितम्बर (सुरिन्द्र कोछड़) : पाकिस्तान की राज्य सिंध सरकार द्वारा अल्पसंख्यक भाईचारे के धार्मिक स्थानों की सुरक्षा के लिए करोड़ों रुपयों के प्रोजैक्ट पास किए जाने के बावजूद हिन्दू मंदिरों पर लगातार हमले जारी हैं। पिछले एक सप्ताह में राज्य सिंध के घोटकी में दो हिन्दू मंदिरों सहित कुल चार मंदिरों को निशाना बनाया गया है। कराची के वकील लछमन मेघवार ने यह जानकारी सांझी करते हुए बताया कि राज्य सरकार द्वारा सिंध में मौजूद 1200 से लगभग मंदिर, गिरजा-घर और गुरुद्वारों में सुरक्षा उपलब्ध करवाने के साथ-साथ सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाए जाने के आदेश जारी किए गए हैं। जबकि राज्य की हिन्दू और ईसाई संगठनों ने आरोप लगाया है कि कुछ एक प्रमुख धार्मिक स्थानों के अलावा बाकी कहीं भी सुरक्षा इंतजाम नहीं किए गए हैं। उनका कहना है कि कम संख्या भाईचारे के पारम्परिक स्थानों की सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार गंभीर नहीं है, जिस कारण पारम्परिक स्थानों को शरारती तत्वों द्वारा नुकसान पहुंचाए जाने का खतरा बना रहता है। बताया जा रहा है कि सरकार के इस व्यवहार के चलते हिन्दुओं के सख्खर ज़िले के बीच विश्व प्रसिद्ध साधु बेला मंदिर में मौजूदा समय में एक भी सरकारी सुरक्षा कर्मचारी ताईबान नहीं है और उसको कट्टरपंथियों द्वारा नुकसान पहुंचाए जाने का खतरा बना रहता है।