गुरबाणी के प्रसारण संबंधी हम किसी पर नहीं करेंगे एतराज : नारायण


जालन्धर, 14 जनवरी (मेजर सिंह): पी.टी.सी. नैटवर्क चैनल के प्रबंधकों ने हुक्मनामे संबंधी पैदा हुए विवाद को समेटने के लिए श्री हरिमंदिर साहिब से जारी होते पावन हुक्मनामे को किसी के द्वारा भी अपने-आप को माध्यम के ज़रिये संगतों तक पहुंचाने पर न एतराज है और न ही होगा, की घोषणा की है। एक लिखित बयान में पी.टी.सी. नैटवर्क के प्रैज़ीडैंट व मैनेजिंग डायरैक्टर रबिन्द्र नारायण ने कहा है कि बेबुनियाद विवाद को खत्म करना हम अपना मुख्य कर्त्तव्य समझते हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न मीडिया संस्थानों द्वारा प्रसारण के समय गुरमर्यादा की उल्लंघना करने या गुरबाणी का निरादर करने का मामला हम संगतों, संगत द्वारा चुनी हुई धार्मिक संस्था शिरोमणि कमेटी और श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार पर छोड़ते हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि गुरबाणी इलाही दात है और इस पर किसी का भी बौधिक अधिकार नहीं हो सकता। उन्होंने बताया कि हम शिरोमणि कमेटी तथा श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को सारी स्थिति स्पष्ट कर रहे हैं। वह जो भी फैसला करेंगे हमें मंज़ूर होगा। उन्होंने कहा कि सिख कौम में पहले ही मुश्किलें व कठिनाईयां हैं, हम नहीं चाहते कि बेबुनियाद विवाद को आगे बढ़ाया जाए। श्री नारायण ने संगतों को जानकारी देते हुए यह भी कहा है कि गुरुद्वारा श्री हेमकुंट साहिब से गुरबाणी टैलीकास्ट के लिए वहां की प्रबंधक कमेटी द्वारा एक निजी चैनल को लाखों रुपए दिए जाते थे। उसी तरह दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा दो निजी चैलनों को गुरुद्वारा बंगला साहिब से गुरबाणी प्रसारण के लिए भी रकम दी गई। उन्होंने कहा कि पी.टी.सी. चैनल प्रसारण न सिर्फ भेटों रहित निभा रहा है, बल्कि अब तक बनती फीस भी लगातार देते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2012-13 से अब तक हम शिरोमणि कमेटी को 10 करोड़ रुपए की अदायगी भी कर चुके हैं।