धारा 370 पर सरकार के फैसले के समर्थन में यू.एस. में कश्मीरी पंडितों की रैली


वाशिंगटन, 25 अगस्त (इंट): अमरीका में कश्मीरी पंडितों ने रैली निकालकर जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाए जाने के भारत सरकार के फैसले का समर्थन किया। अटलांटा में आयोजित इस रैली में अन्य भारतीय-अमरीकी नागरिकों ने भी हिस्सा लिया। नैशनल फैडरेशन ऑफ इंडियन अमेरिकन एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और कश्मीरी मूल के सुभाष राजदान ने इस अवसर पर कहा, ‘इस रैली में इस पर रौशनी डाली कि जम्मू-कश्मीर से संबंधित अस्थायी अनुच्छेद में इस तरह के बदलाव की ज़रूरत थी, क्योंकि यह कश्मीरी अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभावपूर्ण था।’रैली में आए कश्मीरी पंडितों ने उन पलों को याद किया जब घाटी में पांव पसार रहे आतंकवाद के कारण उन्हें अपने घरों को छोड़ने को मजबूर होना पड़ा था। राजदान ने कहा, ‘यहां मौजूद सभी लोगों का मानना है कि आज जो आजादी मिली है वह मोदी सरकार के कारण मिली है। भारत में हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई और अन्य धर्मों के लोगों के पास कानून के तहत समानता के साथ रहने का अवसर होगा।’ इस बीच, ओवरसीज फिजिशियन ऑफ कश्मीरी ऑरिजिन ने लैंसेज मैगजीन के चीफ एडिटर के नाम चिट्ठी में लिका कि उन्हें 17 अगस्त को प्रकाशित एडिटोरियल से काफी निराशा हुई। चिट्ठी में लिखा गया, ‘हम अनुरोध करते हैं लैसेंट तुरन्त एडिटोरियल को हटाए और वह इसे और तथ्यों और कश्मीरी पर बेहतर विश्लेषण के साथ दोबारा पब्लिश करें।’ इसने कहा कि इसने पास कोई अधिकार नहीं है कि वह एक धर्म निरपेक्ष, सम्प्रभु और लोकतांत्रिक देश के कश्मीर समस्या को सुलझाने पर उठाए गए कदमों पर सवाल उठाए।