पीएम मोदी और शी जिनपिंग की दोस्ती का गवाह बना 1300 साल पुराना  पत्थर 



महाबलीपुरम , 12 अक्टूबर - तमिलानाडु  के शहर महाबलीपुरम  में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री मोदी  की मुलाकात हुई. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को महाबलीपुरम के कई दर्शनीय स्थलों में लेकर गए. पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को महाबलीपुरम की दक्षिण भारतीय संस्कृति और इसकी समृद्ध विरासत के बारे में बताया. दोनों नेताओं के मुलाकात की एक तस्वीर काफी वायरल हो रही है.इस तस्वीर में पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग एक बड़े से पत्थर के आगे दिखाई दे रहे हैं. विशालकाय पत्थर के आगे दोनों नेता अपने हाथ ऊपर कर खड़े हैं. ये विशालकाय पत्थर बहुत ही छोटे से एरिया पर टिका है और खतरनाक रूप से आगे की तरफ झुका है. ऐसा लगता है कि ये पत्थर थोड़ी सी हलचल से कभी भी आगे की तरफ लुढ़क सकता है. लेकिन कहा जाता है कि पिछले 1300 साल से ये पत्थर यहां ऐसे ही पड़ा है.महाबलीपुरम के एक पहाड़ी इलाके के उपरी भाग में टिके इस पत्थर को यहां के लोग कृष्णा बटर बॉल के नाम से जानते हैं. दिखने से ऐसा लगता है कि थोड़े से कंपन से ये विशालकाय पत्थर कभी भी पहाड़ से फिसल सकता है. लेकिन ये पत्थर पिछले 1300 साल से यहां ऐसे ही पड़ा है. कई बार इसके खतरनाक स्तर पर आगे की तरफ से झुके होने की वजह से इसे यहां से हटाने की कोशिश की गई लेकिन किसी को इसमें कामयाबी नहीं मिली.