डा. लखविन्द्र सिंह जौहल का काव्य संग्रह ‘लहु के लफ्ज़’ लोकार्पित


चंडीगढ़, 12 अक्तूबर (अजायब सिंह औजला): प्रसिद्ध कवि एवं पंजाब कला परिषद के महासचिव डा. लखविन्द्र सिंह जौहल के काव्य संग्रह ‘लहु के लफ्ज’ का लोकार्पण करने के अवसर पर अपनी तकरीर करते पदमश्री डा. सुरजीत पातर ने कहा कि लखविन्द्र जौहल को सामाजिक चेतना वाली कविता कहने की प्रतिभा हासिल है। डा. सुरजीत पातर ने कहा कि लहु में सिक्त करके ही सामाजिक कविता लिखी जा सकती है। पंजाबी लेखक सभा चंडीगढ़ द्वारा आचार्य कुल चंडीगढ़ के सहयोग से सैक्टर-16 स्थित गांधी स्मारक निधि भवन में एक साहित्यिक महफिल सजाई गई, जिसमें डा. लखविन्द्र सिंह जौहल के काव्य संग्रह ‘लहु के लफ्ज’ को पदमश्री डा. सरबजीत सिंह, डा. योगराज, निंदर घुगियाणवी, सुशील दोसांझ, ओमिन्द्र जौहल एवं दीपक शर्मा चनारथल द्वारा संयुक्त रूप से लोकार्पण करने की रस्में अदा की।