सुल्तानपुर लोधी में 550वें प्रकाश पर्व संबंधी चल रहे विकास अब भी अधूरे


सुल्तानपुर लोधी, 20 अक्तूबर (अमरजीत कोमल/बलविंदर लाडी): गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के संबंध में ऐतिहासिक शहर सुल्तानपुर लोधी में चल रहे विकास कार्य अब भी अधूरे हैं। सरकार की ओर से 20 अक्तूबर तक सभी कार्य पूरे करने के लिए विभिन्न विभागों के अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए थे, के बावजूद भी टैंट सिटी, पवित्र बेई पर घाट बनाने, शहर के मुख्य बाजार की सड़क को पक्के करने, रेलवे स्टेशन के नवीनीकरण, टैंट सिटी के पार्किंग में अभी भी बहुत से कार्य हैं, जो पूरे नहीं हो सके। पवित्र बेईं पर घाट बनाने और बेईं किनारे पर रेलिंग लगाने का कार्य निरंतर जारी है। वर्णनीय है कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह की ओर से 23 अक्तूबर को सुल्तानपुर लोधी में 400 करोड़ रुपये की लागत से बन रहे विभिन्न प्रोजैक्ट, जिनमें नया बना बस अड्डा, पवित्र बेईं पर बने पुल और अन्य प्रोजैक्ट लोकार्पित किए जाने हैं। पहले प्रशासन अधिकारियों और राज्य सरकार के मंत्रियों की ओर से 30 सितम्बर तक पूर्ण किए जाने का वायदा किया गया था। जिस ढंग से कार्य चल रहा है, उससे प्रतीत होता है कि ये कार्य अभी एक सप्ताह पूरे होने वाले नहीं। 550वें प्रकाश पर्व संबंधी गुरुद्वारा श्री बेर साहिब नजदीक सरकार की ओर से करवाए जाने वाले मुख्य समारोहों के लिए बनाए गए मुख्य पंडाल के प्रवेश द्वार को गुंबद लगा धार्मिक रुप प्रदान किया गया है। इस स्थान पर वी.आई.पी. के लिए अलग लोंज बनाया गया है। बूसोवाल में बनाए गए हैलीपैड से महत्वपूर्ण व्यक्तियों को गुरुद्वारा श्री बेर साहिब पहुंचाने के लिए बेईं पर दो पलटून पुल और हाई लैवल फुट ब्रिज का निर्माण किया गया है, जहां महत्वपूर्ण व्यक्तियों को गुरुद्वारा श्री बेर साहिब ले जाया जाएगा। जहां तक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से करवाए जा रहे कार्यो का प्रश्न है, अभी तक बेबे नानकी निवास, गुरुद्वारा श्री बेर साहिब का प्रशासकीय ब्लाक पूर्ण हुआ है, जबकि लंगर हाल, नई बन रही ड्योढ़ी और गुरुद्वारा श्री हट साहिब नजदीक बन रही सरां और गुरुद्वारा श्री संतघाट के नवीनीकरण का कार्य जारी है।काम अधूरा होने कारण पत्रकारों के टैंट सिटी में जाने पर प्रतिबंध : सुल्तानपुर लोधी में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं की रिहाईश के लिए सरकार की ओर से 53 करोड़ रुपये की लागत से गांव माछीजोआ, रणधीरपुर और दीपेवाल वाले हिस्से की ओर रेलवे लाईन के नजदीक बन रहे टैंट सिटी में अभी भी बहुत सारा काम अधूरा पड़ा है। आज जब पत्रकारों ने माछीजोआ नजदीक बन रहे टैंट सिटी में प्रबंध देखने के लिए जाना चाहा तो एक निजी कंपनी के सुरक्षा कर्मचारियों की ओर से ये कह कर वापिस भेज दिया गया कि कल दोपहर तक टैंट सिटी में मीडिया के जाने पर प्रतिबंध है। उन्हाेंने ये भी कहा कि आज टैंट सिटी में कई अधिकारी आए हुए हैं, आप बिना मंजूरी के अंदर नहीं जा सकते। माछी जोआ सड़क से टैंट सिटी के चल रहे कार्य देखे जाने पर पता चला कि इस टैंट सिटी में शैड बनाने और अन्य बहुत से कार्य भी अधूरे पड़े हुए हैं।  रेलवे स्टेशन के नवीनीकरण का कार्य भी अभी जारी : रेलवे विभाग की ओर से रेलवे स्टेशन सुल्तानपुर लोधी के नवीनीकरण कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। यहां बन रही शैडों पर छतें डालने का कार्य पूर्ण हो चुका है, दो प्लेटफार्मो पर जाने के लिए ओवरब्रिज यात्रियों के चालू कर दिए गए हैं। 
मुख्य मार्गो पर बनाए गए गेट धार्मिक शख्सियतों को किए समर्पित
शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से कारसेवा वाले संत-महापुरुषों के सहयोग से सुल्तानपुर लोधी को आते सभी मुख्य मार्गो पर बनाए गए गेट सिख धर्म से संबंधित प्रमुख धार्मिक शख्सियतों को समर्पित किए गए हैं। इनमें से एक गेट राय बुलार जी के नाम, दूसरा गेट माता सुलखणी जी के नाम, तीसरा गेट भाई बाला जी के नाम, चौथा गेट भाई मर्दाना जी के नाम और पांचवां गेट माता तृप्ता जी के नाम और एक गेट बेबे नानकी जी के नाम पर रखा गया है।