विवान और ईशा ने जीते दोहरे स्वर्ण


नई दिल्ली, 7 नवम्बर (वार्ता) : भारतीय जूनियर निशानेबाजों ने कतर के लुसैल में चल रही 14वीं एशियाई निशानेबाजी प्रतियोगिता में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए गुरूवार को तीसरे दिन 10 और पदक जीत लिए जिसमें पांच स्वर्ण शामिल हैं। भारत के अब तक जीते 23 पदकों में से 18 पदक तो जूनियर निशानेबाजों ने जीते हैं। इस बीच चिंकी यादव ने महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा के क्वालिफिकेशन के राउंड एक में पांचवें स्थान पर रहकर टोक्यो ओलम्पिक का कोटा हासिल करने की उम्मीदें कायम रखी हैं। चिंकी ने 292 का स्कोर किया। इस स्पर्धा में राही सरनोबत पहले ही भारत के लिए कोटा हासिल कर चुकी हैं। लुसैल शूटिंग काम्प्लेक्स में जूनियर पुरुष ट्रैप स्पर्धा में विवान कपूर ने स्वर्ण और भवनीश मेंदीरत्ता ने रजत जीता। इस जोड़ी और मानवादित्य सिंह राठौर ने टीम स्पर्धा का स्वर्ण जीता। विवान के अब प्रतियोगिता में तीन स्वर्ण पदक हो चुके हैं। युवा निशानेबाज ईशा ने महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल जूनियर स्पर्धा में व्यक्तिगत और टीम स्वर्ण जीता। उन्होंने क्वालिफिकेशन में 579 के स्कोर के साथ टॉप किया और फाइनल में 242.2 के स्कोर के साथ स्वर्ण जीता। प्रिया राघव को इस स्पर्धा में कांस्य पदक मिला। ईशा, प्रिया और युविका तोमर की टीम ने 1721 के स्कोर के साथ इस वर्ग में एशियाई और जूनियर विश्व रिकॉर्ड तोड़ा। भक्ति भास्कर खामकर ने भारत को दिन का पांचवां स्वर्ण 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन महिला जूनियर स्पर्धा में 453.1 के स्कोर के साथ दिलाया। भक्ति,आयुषि पोद्दार और निश्छल ने इस स्पर्धा में टीम रजत जीता। नीरज कुमार, हर्षराजसिंहजी गोहिल और नीतीश कुमार इस स्पर्धा के पुरुष जूनियर वर्ग का रजत तथा नीरज ने व्यक्तिगत रजत जीता।