कैटमोस्फेर कैट कैफे सिडनी डिजिटल युग में आदिम रोमांच


‘क्या आपने ऑबी-वान काटोबी को देखा है?’ मेरे पास की टेबल पर बैठी महिला ने सवालिया नजरों के साथ मुझसे मालूम किया। किसी अन्य कैफे के संदर्भ में मेरी ड्रिंक में एक पूर्णत: अजनबी का यह हस्तक्षेप माना जाता। लेकिन यहां सिडनी के कैट कैफे - जहां रहने वाली बिल्लियों का नाम उन प्राणियों के नाम पर रखा जाता है जिनका स्पेस से दार्शनिक संबंध रहा हो- में ऐसी बातों का बुरा नहीं माना जाता है। सिडनी के पहले स्पेस-थीम्ड कैट कैफे कैटमोस्फेर में दो कमरे उन लोगों को समर्पित हैं जो बिल्लियों की पूजा करना चाहते हैं, वह अपनी कॉफी के साथ इन कमरों में एकत्र हो सकते हैं और जिस पल मैंने अंदर प्रवेश किया तो पूर्णत: स्पष्ट हो गया कि कैट कैफे एक खास व्यक्तित्व थोपता है। मसलन, जब बिल्लियां पास हों तो सभ्य रहना असंभव होता है और इसलिए मैं अपने घुटनों के बल हूं और एक अन्य समान सोच वाला व्यक्ति भी घुटनों पर चल रहा है,बिल्लियों से प्यार पाने के प्रयास में।हालांकि एक कुत्ते की ‘हे, खेलोगे?’ पर संभवत: सकारात्मक प्रतिक्रिया होती है, लेकिन बिल्लियां मेरा तिरस्कार करती हैं जैसे कह रही हों ‘तुम घुटनों पर आकर क्या कर रहे हो?’ कैफे के सह-संस्थापक थॉमस डेरीकाट इस स्थिति को समझते हुए कहते हैं, ‘कुत्ते स्टीक की तरह होते हैं कि तुरंत तृप्ति हो जाती है,दूसरी ओर, बिल्लियां फ्रेंच व्यंजन की तरह होती हैं कि अगर आपमें संयम है तो आपको फ ल मिलेगा।’ हालांकि मेरी परवरिश कोई आशा न करने वाले स्कूल में हुई है, लेकिन नील पॉस्ट्रांग मेरे प्यार भरे प्रयास को स्वीकार करती है और मुझे पुचकारने की अनुमति प्रदान कर देती है। जो शुरू में सिर्फ  सिर से सिर ‘टकराना’ प्रतीत हो रहा था, वह आलिंगन में परिवर्तित हो जाता है।डेरीकाट स्वीकार करते हैं कि जब तक उन्हें एहसास हुआ कि पॉस्ट्रांग मादा है,तब तक उसका ‘नील’ नाम रखा जा चुका था। जिनको हाइजीन की चिंता रहती है,उनको सुनिश्चित करने के लिए कॉफी, स्नैक्स और हल्का भोजन एकदम एक अलग क्षेत्र में तैयार किया जाता है और अगर आप अधिक एहतियात बरतते हैं तो आपके लिए एक अलग कैफे क्षेत्र है जिससे आपके खाने में बाल का आना नगण्य हो जाता है। हद तो यह है कि अपनी पसंद की हॉट ड्रिंक के साथ कैट रूम में जाने से पहले आपको अपने हाथ धोने होते हैं। कैट रूम ‘ऐलिस इन वंडरलैंड’ के पन्नों से से निकला प्रतीत होता है।पेस्टल ब्लू दीवारें, मुलायम कुशन जो इन्द्रधनुष के सभी रंगों में हैं, बिल्लियों के चढ़ने के लिए गुफा जब उन्हें अपने लिए समय चाहिए। स्टैंड और आरामदायक सोफे। मेरी सामने वाली टेबल पर एक किताब रखी है- ‘गाइस कैन बी कैट लेडीज टू’ (पुरुष बिल्ली बन सकते हैं, महिलाएं भी)। जो लोग पूर्णत: संतुलित रहना चाहते हैं,उनके लिए, मुझे बताया गया कि ‘कैट योग’ सत्र भी ऑफर पर है। डेरीकाट का कहना है कि बिल्लियों पर जब फोकस न रहे तो वह काफी चिड़चिड़ी हो जाती हैं लेकिन जैसे-जैसे सत्र आगे बढ़ता है बिल्लियां शरारत करते हुए योग कर रहे पैट्रन के पैरों के बीच में घुस जाती हैं। डेरीकाट मुस्कुराते हुए बताते हैं, ‘इससे योग अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है और ग्राहक को असीम आनंद आता है।’ सत्र के अंतिम 15 मिनट बिल्ली-सम्पर्क में व्यतीत किये जाते हैं। उस समय तक बिल्लियां अपने मानव भक्तों के प्रति काफी सहज हो चुकी होती हैं। बिल्लियों को नियंत्रित करने वालों की जिम्मेदारी है कि वह दोनों बिल्लियों और ग्राहकों की भलाई का ख्याल रखें। खेल से अधिक थकी बिल्ली को केवल-बिल्ली चैम्बर में ले जाया जाता है अधिक उत्साही को शांत किया जाता है। पत्रिका ‘पसवीक’ सिर्फ  बिल्लियों से संबंधित है। एक बार में दो बिल्लियों को ही इस जगह का हिस्सा बनाने के लिए अडॉप्ट किया जाता है। डेरीकाट बताते हैं, ‘जब नई बिल्लियां आती हैं तो वह अन्य बिल्लियों को देखती हैं कि वह एक दूसरे के प्रति कितनी आरामदायक हो गई हैं और फि र तय करती हैं कि उन्हें कहां जाना चाहिए और कहां नहीं।’ नीचे बिल्ली के बच्चों के कमरे में, जिसे स्पेस अकादमी नाम दिया गया है, छोटे-छोटे बच्चे जीवन व ऊर्जा से भरे हैं। सोते बच्चे आंख खोलते हैं तो लोग ऊह आह करते हैं। डेरीकाट कहते हैं, ‘हर बिल्ली में थोड़ा मानव होता है और हर मानव में थोड़ी बिल्ली।’ मैं कैफे से बाहर निकल आता हूं, यह सोचते हुए कि कैटमोस्फेर काफी हद तक सिडनी का ही प्रतीक है- हंसमुख, ऊर्जावान और हमेशा कुछ नया करने के लिए तैयार।

-इमेज रिफ्लेक्शन सेंटर