जलालाबाद में उप-चुनाव कांग्रेस व अकाली दल हेतु होगा चुनौतीपूर्ण


फाज़िल्का, 25 मई(दविन्द्रपाल सिंह): फिरोजपुर लोकसभा हलके से स. सुखबीर सिंह बादल के चुनाव जीत जाने के बाद जलालाबाद विधान सभा हलके से उप-चुनाव होना तय हो चुका है। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने इस उप-चुनावों में कूदने को लेकर अंदरखाते तैयारियां शुरू कर दी हैं। पंजाब की दोनों मुख्य राजनीतिक पार्टियां अकाली-भाजपा गठबंधन व कांग्रेस के लिए टिकट बांटने का मसला कोई आसान काम नहीं होगा। पंजाब में सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी अपनी साख को उभारने के लिए इस उप-चुनाव में पूरा जोर लगाएगी। किसी समय कांग्रेस का गढ़ रही इस सीट से अकाली दल का कब्ज़ा छुड़वाएगी। दूसरी तरफ स. सुखबीर सिंह बादल अपनी इस सीट को कांग्र्रेस के हाथ में जाने से रोकने के लिए पूरी ताकत लगाने के मूड़ में है। वह इस बात से हौंसले में हैं कि विकास के मुद्दे पर वह वोटरों तक पहुंचेंगे। अकाली दल में इस समय टिकट प्रापत करने के लिए सभी जातियों के नेता जोर लगा रहे हैं। मगर राजनीतिक सूत्रों अनुसार अकाली दल उप-चुनाव में किसी राय सिख बिरादरी के नेता को चुनावी मैदान में उतारने का मन बनाए बैठा है। वह एक तीर से दो निशाने लगाने की फिराक में है। पहला तो किसी राय सिख बिरादरी के नेता को टिकट देकर बहुसंख्यांक वोटर, जो राय सिख बिरादरी से सबंधित हैं, को अपने साथ जोड़े रखना चाहता है, दूसरा अकाली दल से खफा होकर कांग्रेस में मिले शेर सिंह घुबाया के मुकाबले राय सिख बिरादरी में नेता उतारा जाए। राजनीतिक सूत्रों अनुसार इस समय एक दर्जन के करीब अकाली नेता चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं, मगर इन में संजीदा उम्मीदवार सोई के ज़िला प्रधान नरिन्द्र सिंह सवना, विधानसभा चुनावों में कांग्रेस छोड़कर अकाली दल में आए पूरन सिंह मुजैदिया और एस.सी. कमिशन पंजाब के वाइस चेयरमैन डा. राज सिंह अपने पद से इस्तीफा देकर चुनाव मैदान में कूदना चाहते हैं। दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी के लिए भी उम्मीदवार का चयन कोई आसान काम नहीं है। यहां भी पूर्व मंत्री हंस राज जोसन, पंजाब बुद्धिजीवी सैल के अनीश सिडाना, ऑल इंडिया यूथ कांग्रेस के सचिव गोल्डी कंबोज मुख्य दावेदारों में शामिल हैं। राय सिख, कंबोज और जटट सिख बिरादरी की बहुगिनती वाले इस हलके में अब देखना होगा कि पंजाब की दोनों राजनीतिक पार्टियां किसी संतुलन के उम्मीदवारों का चयन करती हैं या फिर पहले की तरह पैराशूट द्वारा बाहरी लीडर मैदान में उतारा जाता है।