मामला अमित शाह द्वारा राजोआणा की सज़ा बारे दिए बयान का- केन्द्र अपने बयान से पीछे हटा : लौंगोवाल


चंडीगढ़, 3 दिसम्बर (एन.एस. परवाना): शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लौंगोवाल ने कहा कि यह हैरान करने वाली बात है कि केन्द्र सरकार भाई बलवंत सिंह राजोआणा की फांसी की सज़ा को घटाने के अपने फैसले से पीछे हट गई है। आज यहां शाट नोटिस पर बुलाई गई प्रैस कान्फ्रैंस को सम्बोधित करते हुए उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह का एक बयान कि ‘भाई राजोआणा की मौत की सज़ा को माफ नहीं किया गया था’ सिख कौम के लिए एक सदमा बन कर आया है। पिछले माह मीडिया में ऐसी खबरें आई थीं कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भाई राजोआणा की मौत की सज़ा को घटा दिया था। इन रिपोर्टों को सिख भाईचारे ने महत्वपूर्ण माना क्योंकि वह गृह मंत्रालय द्वारा कभी भी खंडन नहीं किए गए थे। इस कारण कि गृह मंत्री के बयान ने सभी को हैरान कर दिया है। हम महसूस करते हैं कि यह गत समय को बंद करने व नई शुरुआत करने के उद्देश्य विरुद्ध है।
श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समारोह पर भाई राजोआणा को मानवतावादी इशारे स्वरूप मौत की सज़ा को घटाने की रिपोर्टों की सिख भाईचारे द्वारा पहले प्रशंसा की थी। उन्होंने कहा कि आज गृह मंत्री के बयान से गहरी चोट व परेशानी आई है। उन्होंने कहा कि शिरोमणि कमेटी टकराव की नीति को दूर करने व इसकी जगह सुलह व सहयोग की वकालत करती है।
शिरोमणि कमेटी सिख भाईचारे की भावनाओं को मद्देनज़र रखते हुए व सभी तथ्यों पर विचार करने के उपरांत गृह मंत्री को भाई राजोआणा की सज़ा को माफ करने की अपील करती है। उन्होंने यह ज़ोर दिया कि एस.जी.पी.सी. भाई राजोआणा को मानव राहत दिलाने के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेगी। हम इस फैसले को तबदील करने के लिए व भाई राजोआणा को राहत दिलाने के लिए प्रधानमंत्री व गृह मंत्री के पास पहुंच करेंगे। इस अवसर पर प्रो. कृपाल सिंह बडूंगर पूर्व प्रधान, शिरोमणि कमेटी, स. रजिन्द्र सिंह मेहता वरिष्ठ उपप्रधान, स. गुरबख्श सिंह खालसा जूनियर उपप्रधान, स. हरजिन्द्र सिंह धामी महासचिव, स. जगसीर सिंह मांगेआणा अंतरिंग सदस्य शिरोमणि कमेटी, स. भगवंत सिंह सियालका सदस्य शिरोमणि कमेटी, स. गुरप्रीत सिंह झब्बर सदस्य शिरोमणि कमेटी, स. दर्शन सिंह पी.ए. भाई लौंगोवाल उपस्थित थे।